ज्येष्ठ (जेठ ) माह में शादी-विवाह और ज्योतिष–

ज्येष्ठ (जेठ ) माह में शादी-विवाह और ज्योतिष—-

सुखी वैवाहिक जीवन में मधुरता, स्थिरता और सफलता के लिए विवाह लग्न अति महत्वपूर्ण और सर्वथा ग्राह्य कारक है। बहुधा अन्य कारकों का आकलन किए बिना पंचांग में विवाह मुहूर्त सारणी देखकर विवाह की तारीख निश्चित कर दी जाती है, जो सर्वथा गलत है।

पंडित “विशाल” दयानंद शास्त्री,(मोब.-09669290067 एवं 09024390067 ) के अनुसार पहले गर्भ में उत्पन्न लड़के या लड़की का विवाह उसके जन्म मास, जन्म नक्षत्र या जन्म तिथि में नही करना चाहिए। यदि माता का पहला गर्भ नष्ट हो गया हो तब यह विचार करने की आवश्यकता नहीं है। जन्म मास के सन्दर्भ में मुहूर्तशास्त्रियों के दो मत हैं, कुछ तो जन्म के चान्द्रमास को जन्म मास मानते हैं और कुछ जन्म दिन से लेकर तीस दिन के अवधि को जन्म मास माना जाए।

ज्येष्ठ लड़के और ज्येष्ठ लड़की का परस्पर विवाह ज्येष्ठ मास में नहीं करना चाहिए। पुत्र के विवाह के 6 माह के भीतर पुत्री का विवाह नहीं करना चाहिए। पुत्री का विवाह करने के बाद पुत्र का विवाह कभी भी किया जा सकता है।

पंडित “विशाल” दयानंद शास्त्री,(मोब.-09669290067 एवं 09024390067 ) के अनुसार जिस तरह कन्या के विवाह के लिए गुरु बल आवश्यक है, उसी तरह वर के विवाह के लिए शुक्र बल आवश्यक है। कुछ लोग कहते हैं कि सब समय ईश्वर का बनाया हुआ है, अतः सब ठीक है। लेकिन विचारणीय है कि संपूर्ण सृष्टि ईश्वर की ही बनाई हुई है, फिर भी इसमें सकारात्मक और नकारात्मक पक्ष हैं, अच्छे और बुरे लोग, दैवी और दानवी तत्व हैं। कुल मिलाकर, यदि शुभ जीवन की अभिलाषा हो तो विवाह शुभ लग्न युक्त समय में करें।

समाज में दो प्रकार के विवाह प्रचलन में हैं- पहला परंपरागत विवाह [प्राचीन ब्रह्मधा विवाह] और दूसरा अपरंपरागत विवाह [प्रेम विवाह या गंधर्व विवाह]।
परंपरागत विवाह माता-पिता की इच्छा अनुसार संपन्न होता है, जबकि प्रेम विवाह में लड़के और लड़की की इच्छा और रूचि महत्वपूर्ण होती है।

आधुनिक परिप्रेक्ष्य, स्वतंत्र विचारों, पश्चिमी संस्कृति के प्रभाव के कारण अधिकतर अभिभावक चिंतित रहते हैं कि कहीं उनका लड़का या लड़की प्रेम विवाह तो नहीं कर लेगाक् विवाह पश्चात उनका दाम्पत्य जीवन सुखमय रहेगा या नहींक् ऎसे कई प्रश्न माता-पिता के लिए तनाव का कारण बन सकते हैं। क्योंकि परंपरागत विवाह में जन्म कुंडली मिलने के बाद ही विवाह किया जाता है, जबकि प्रेम विवाह में जरूरी नहीं कि कुंडली मिलान किया जाए। इसका एक कारण यह भी हो सकता है कि अधिकतर के पास जन्म कुंडली होती नहीं है। कई बार छिपकर भी प्रेम विवाह हो जाता है। विवाह होने के पश्चात जब माता-पिता को पता चलता है तो वह चिंतित हो उठते हैं क्या इनका दाम्पत्य जीवन सुखी और स्थायी रहेगा।

पंडित “विशाल” दयानंद शास्त्री,(मोब.-09669290067 एवं 09024390067 ) के अनुसार हमारे समाज में लडके व लडकी की शादी के लिए उन दोनो की जन्म कुण्डलियो का मिलान करने का रिवाज है. इसमें मंगलीक दोष، जन्म राशी، तथा नक्षत्र के आधार पर 36 गुणो का मिलान किया जाता है. 18 से अधिक गुणमिलने पर दोनो की कुण्डली विवाह के लिए उपयुक्त मान ली जाती है. तार्किक दृष्टिकोण से यहाँ पर यहप्रश्न उठता है कि प्राचीन समय से चली आ रही कुण्डली मिलान की यह विधि क्या आज भी प्रासांगिकहै. यह एक महत्वपूर्ण एंव विचारणीय प्रश्न है, क्योंकि लेखक ने अपने जीवन में ऎसी बहुत सीकुण्डलियो की विवेचना की है जिसमें 18 से कम गुण मिलने पर भी लडके एवं लड्की दोनो कोसुखपूर्ण जीवन व्यतीत करते देखा है जबकि 25 से अधिक गुणो का मिलान होने पर भी दोनो केसम्बन्धो में तनाव देखा गया है. इस दृष्टि से प्राचीन ज्योतिष का यह सिद्धान्त/ नियम अप्रसांगिक होजाता है. कमी कहाँ है, हमें इसकी संजीदगी से खोज करनी चाहिये.

हिन्दू संस्कृति में विवाह को सर्वश्रेष्ठ संस्कार बताया गया है। क्योंकि इस संस्कार के द्वारा मनुष्य धर्म, अर्थ, काम तथा मोक्ष की सिद्धि प्राप्त करता है। विवाहोपरांत ही मनुष्य देवऋण, ऋषिऋण, पितृऋण से मुक्त होता है।

अन्य कारक भी उतने ही महत्वपूर्ण हैं जितना कि विवाह मुहूर्त सारणी, इसलिए उनका भी आकलन अवश्य किया जाना चाहिए। 24 घंटे में बारह लग्न होते हैं और प्रत्येक लग्न लगभग दो घंटे का होता है। वस्तुतः ‘लग्न’ मुहूर्त का परमावश्यक अंग है। जन्म समय की ग्रह स्थिति को हम बदल नहीं सकते, लेकिन शुभ समय में किसी कार्य को आरंभ करके सफलता पाना संभव है। मुहूर्त के आठ अंगों में सर्वाधिक फल ‘लग्न’ को प्राप्त है। इन आठ अंगों में तिथि फल को एक गुणा, नक्षत्र फल को चार, वार को आठ, करण को सोलह, योग को بس , तारा को साठ, चंद्र को सौ और लग्न को एक हजार गुणा महत्व प्राप्त है। इसीलिए विवाह के लिए मुहूर्त प्रकरण में लग्न का निर्धारण और उसका अनुपालन आवश्यक है।

पंडित “विशाल” दयानंद शास्त्री,(मोब.-09669290067 एवं 09024390067 ) के अनुसार वे सभी महत्वपूर्ण कार्य, जिनका प्रभाव हमारे संपूर्ण जीवन काल, घर-परिवार और समाज पर पड़ता है, शुभ समय में करने चाहिए। समाज और रिश्तेदारों को भी दो आत्माओं को दाम्पत्य सूत्र में शुभ लग्न में बंधने में सहयोग करना चाहिए। पाया गया है कि जन्मपत्री में दाम्पत्य सुख बाधा हो या नहीं, यदि विवाह लग्न दोषपूर्ण हो, तो दाम्पत्य जीवन कष्टमय होता है। इसलिए शुभ समय में विवाह करना श्रेष्यकर है। विवाह लग्न निर्धारण संबंधी निम्नांकित मुख्य तथ्य विचारणीय है। लग्न- दीर्घ और सुखी वैवाहिक जीवन के लिए शुभ स्थिर लग्न में वैवाहिक अनुष्ठान सम्पादित करना चाहिए। वर-कन्या की जन्म राशि या जन्म लग्न से लग्न 3, 6, 10 या11 शुभ माना जाता है। जन्म-लग्न या जन्म राशि से चतुर्थ, अष्टम या द्वादश लग्न अशुभ माना जाता है।

कुण्डली के 1,4,7,8,12 भाव में मंगल होने से वह मंगलीक दोष से युक्त होजाती है. मंगल को साहस, शक्ति, उर्जा, जमीन-जायदाद, छोटे भाई इत्यादि का कारक माना जाता है,उपरोक्त पाँच भावों में से तीन केन्द्र स्थान कहलाते हैं तथा फलित ज्योतिष के अनुसार सौम्य / शुभग्रह(चन्द्र, बुद्य, गुरु व शुक्र) केन्द्र स्थान में होने से दोषकारक होते है जबकि क्रुर ग्रह (सुर्य, मंगल, शनि वराहू) केन्द्र स्थान में होने से शुभफलदायी होते है. इस तरह दो प्रकार की विरोधात्मक बाते सामने आतीहै, मंगल ग्रह के कमजोर होने से क्या कुण्डली मिलान उत्तम रहता है. जबकि शनि ग्रह की सप्तम भावपर दृष्टि विवाह में देरी या दो विवाह का योग बनाती है, परन्तु कुण्डली मिलान में इसका कही भीउल्लेख नही है. अतः हम सभी ज्योतिर्वेदो का कर्तव्य बनता है कि इस सब पर विचार करके एकतथ्यपूर्ण फलादेश बनाना चाहिये ताकि मानव जाति परमात्मा के इस अनुपम उपहार का सही अर्थो मेंअधिक से अधिक लाभ उठा सके.

इस संदर्भ में पुरूष के लिए शुक्र और स्त्री के लिए मंगल का विश्लेषण आवश्यक है। शुक्र प्रणय और आकर्षण का प्रेरक है। इससे सौंदर्य, भावनाएं, विलासिता का भी ज्ञान होता है। पंचम भाव स्थित शुक्र जातक को प्रणय की उद्दाम अनुभूतियों से ओत-प्रोत करता है। मंगल साहस का कारक है। मंगल जितना प्रभुत्वशाली होगा, जातक उसी अनुपात में साहसी और धैर्यशील होगा। यदि व्यक्ति मंगल कमजोर हो तो जातक प्रेमानुभूति को अभिव्यक्त नहीं कर पाता। वह दुविधा, संशय और हिचकिचाहट में रहता है।

चंद्रमा मन का कारक ग्रह है। चंद्रमा का मानसिक स्थिति, स्वभाव, इच्छा, भावना आदि पर प्रभुत्व है। प्रेम मन से किया जाता है। इसलिए चंद्र की स्थिति भी प्रेम विवाह में अनुकूलता प्रदान करती है।
शुक्र आकर्षण का कारक है। यदि शुक्र जातक के प्रबल होता है तो प्रेम विवाह हो जाता है और यदि शुक्र कमजोर होता है तो विवाह नहीं हो पाता है।

कम्प्यूटर में लड़के और लड़की का जन्म दिनांक, जन्म समय, जन्म स्थान फीड किया और झट से गुण संख्या देखी। यदि गुण अच्छे हैं और दोनों मंगली नहीं हैं तो हो गया कुण्डली मिलान।
यह सम्पूर्ण कुण्डली मिलान नहीं है। मात्र गुण मिलान से ही कुण्डली नहीं मिल जाती है। यदि आप गुण मिलान ही कुण्डली मिलान मानते हैं तो आप बहुत बड़ी भूल करते हैं और बाद में जब समस्याएं आती हैं तो कुण्डली को दोष देते हैं।

पंडित “विशाल” दयानंद शास्त्री,(मोब.-09669290067 एवं 09024390067 ) के अनुसार कुण्डली मिलान में गुण मिलान तो एक सोपान्‌ हैं। इसमें कई सोपान चढ़ने के बाद कुण्डली मिलती है।
गुण मिलान करें और मंगली मिलान करें।
आजकल गुण मिलान के पीछे का रहस्य यह है कि आठ प्रकार के गुण होते हैं जिनके कुल 36अंक होते हैं। ये इस प्रकार हैं-

१.. वर्ण-इसका एक अंक होता है। दोनों का वर्ण समान होना चाहिए। वर्ण न मिले तो पारस्परिक वैचारिक मतभेद रहने के कारण परस्पर दूरी रहती है, सन्तान होने में बाधाएं या परेशानियां आती हैं एवं कार्यक्षमता प्रभावित होती है।
2. वश्य-इसके दो अंक होते हैं। यदि ये न मिले तो जिद्द, क्रोध एवं आक्रामकता रहती है और ये तीनों पारिवारिक जीवन के लिए अच्छे नहीं हैं। इससे परस्पर सांमजस्य नहीं हो पाता है और गृहक्लेश रहता है। दोनों अपने अहं को ऊपर रखना चाहते हैं क्योंकि एक दूसरे पर अपना प्रभाव चाहता है जिससे शासन कर सके। अहं की लड़ाई गृहक्लेश ही लाती है।
3. तारा-इसके तीन अंक होते हैं। यदि ये न मिले तो दोनों को धन, सन्तान एवं परस्पर तालमेल नहीं रहता है। दुर्भाग्य पीछा करता है।
4. योनि-इसके चार अंक होते हैं। यदि ये न मिले तो मानसिक स्तर अनुकूल न होकर प्रतिकूल रहता है जिससे परेशानियां अधिक और चाहकर भी सुख पास नहीं आता है।
5. ग्रहमैत्री-इसके पांच अंक होते हैं। यदि ये न मिले तो परस्पर तालमेल रहता ही नहीं है।
6. गण-इसके छह अंक होते हैं। यदि ये न मिले तो भी गृहस्थ जीवन में बाधाओं एवं प्रतिकूलता का सामना करना पड़ता है।
7. भकुट-इसके सात अंक होते हैं। यदि ये न मिले तो परस्पर प्रेमभाव नहीं रहता है, इसलिए दोनों एकदूजे की आवश्यक देखभाल नहीं करते हैं।
8. नाड़ी-इसके आठ अंक होते हैं। यदि ये न मिले तो स्वास्थ्य ठीक नहीं रहता है। सन्तान होने में विलम्ब होता है या अनेक बाधाएं आती हैं।
गुण 36 में से 18 औसत माने गए हैं। ऐसा हो तो सुख, सन्तान, धन और स्थिरता सामान्य रहती है। जितने गुण अधिक होते जाते हैं, मिलान उतना अच्छा होता जाता है।

ऐसा नहीं है कि गुण मिल गए तो सबकुछ अच्छा ही होगा। यह जान लें कि गुणमिलान के अलावा दोनों की कुण्डली का विश्लेषण तो करना ही होगा। कुण्डली का विश्लेषण करके यह देखना चाहिए कि-
1. आर्थिक स्थिति कैसी रहेगी, इसके कारण पारिवारिक जीवन में परेशानी तो नहीं आएगी।
2. शरीर पर भी दृष्टि डालकर देखें कि कोई बड़ा अरिष्ट, दुर्घटना या रोग तो नहीं होगा।
3. तलाक एवं वैधव्य या विधुर योग का विश्लेषण करें।
4. चरित्र दोष के कारण पर पुरुष या पर स्त्री के प्रति आकर्षण तो नहीं होगा जिससे गृहक्लेश या अलगाव की नौबत आए।
5. विवाह के बाद सन्तान होनी चाहिए, सन्तान संबंधी विचार करके देखें कि सन्तान सुख है या नहीं।
6. ईगो या अहम्‌ के कारण परस्पर वैचारिक मतभेद या क्लेश तो नहीं होगा।
ध्यान रखें कि गुण अधिक मिल जाने के बाद भी यदि उक्त पांचों बातों में से कोई भी बात नकारात्मक है तो पारिवारिक क्लेश अवश्य होगा। कुण्डली मिलान करते समय उक्त विचार कर सकते हैं। इसके अतिरिक्त प्रत्यक्ष मिलान छानबीन या देखकर भी यह सब विचारना चाहिए कि –
1. दोनों के कुल, संस्कार, सदाचार व सामाजिक प्रतिष्ठा का ध्यान देना चाहिए।
2. वर कन्या के स्वभाव को भी ध्यान में रखना चाहिए कि उनके स्वभाव में सामंजस्य हो सकता है या नहीं।
3. आर्थिक स्थिति, रोजगार आदि।
4. शैक्षिक योग्यता।
5. शारीरिक सुन्दरता, व्यक्तित्व, सबलता आदि।
6. आयु का सामंजस्य भी ध्यान में रखें। दोनों के आयु में बहुत अधिक अन्तर नहीं होना चाहिए।
लोग आयु बढ़ जाने पर कम करके नकली या डुप्लीकेट कुण्डली बनवा लेते हैं, इससे मिलान करना तो निरर्थक ही है।
कुछ लोग जन्मपत्रियां होते हुए भी नाम राशि से ही कुण्डली मिलान के रूप में मात्र गुण मिला लेते हैं जोकि ठीक नहीं है। क्योंकि गुणमिलान सुखद् गृहस्थ जीवन के लिए आवश्यक नहीं है।
कुण्डली मिलान के अलावा विवाह के लिए परिणय बंधन(फेरों का समय) भी अवश्य निकालना चाहिए। फेरों का समय भी अत्यन्त महत्वपूर्ण है। यदि इस समय की लग्न कुण्डली मजबूत है तो पारिवारिक जीवन को सुखमय बनाने में अधिक सहयोग मिलता है। वैसे भी कुण्डली मिलान के अलावा भी सुखद् गृहस्थ जीवन के लिए आपसी समझ, एक दूजे के लिए त्याग भावना, बुर्जुगों का मार्गदर्शन और मधुरभाषी सहित व्यवहारकुशल होना अति आवश्यक है।
मूलतः एक दृष्टि में श्रेष्ठ पारिवारिक जीवन के लिए कुल, स्वास्थ्य, आयु, आर्थिक स्थिति के अलावा कुण्डली का समम्यक विश्लेषण भी आवश्यक है।

जब लड़के व लड्की की कुण्डली मिलायी जाती है तो यह देखा जाता है कि कितने गुण मिले। आठ प्रकार के गुण होते हैं इनसे कुल 36 गुण मिलते हैं जिसमें से 18 से अधिक गुण मिलने पर यह आशा की जाती है कि वर-वधू का जीवन प्रसन्तामयी एवं प्रेमपूर्ण रहेगा। इन आठ गुणों में से सर्वाधिक अंक नाड़ी के 8 होते हैं। इसके बाद सर्वाधिक अंक भकूट के 7 होते हैं। मूलतः भकूट से तात्पर्य वर एवं वधू की राशियों के अन्तर से है। यह 6 प्रकार का होता है-1. प्रथम-सप्तम 2. द्वितीय-द्वादश 3. तृतीय-एकादश 4. चतुर्थ-दशम 5. पंचम-नवम 6. छह-आठ।
ज्योतिष के अनुसार निम्न भकूट अशुभ हैं-द्विर्द्वादश, नवपंचम एवं षडष्टक।
तीन भकूट शुभ हैं-प्रथम-सप्तम, तृतीय-एकादश एवं चतुर्थ-दशम। इनके रहने पर भकूट दोष माना जाता है।
भकूट जानने के लिए वर की राशि से कन्या की राशि तक तथा कन्या की राशि से वर की राशि तक गणना करनी चाहिए। यदि दोनों की राशि आपस में एक दूसरे से द्वितीय एवं द्वादश भाव में पड़ती हो तो द्विर्द्वादश भकूट होता है। वर-कन्या की राशि परस्पर पांचवी व नौवीं पड़ती है तो नव-पंचम भकूट होता है, इस क्रम में यदि वर-कन्या की राशियां परस्पर छठे एवं आठवें स्थान पर पड़ती हों तो षडष्टक भकूट बनता है।
नक्षत्र मेलापक में द्विर्द्वादश, नव-पंचम एवं षडष्टक ये तीनों भकूट अशुुभ माने गए हैं। द्विर्द्वादश को अशुभ इसलिए कहा गया है क्योकि द्सरा भाव धन का होता है और बारहवां भाव व्यय का होता है, इस स्थिति के होने पर यदि विवाह किया जाता है तो आर्थिक स्थिति प्रभावित होती है।
नवपंचम भकूट को इसलिए अशुुभ कहा गया है क्योंकि जब राशियां परस्पर पांचवे तथा नौवें भाव में होती हैं तो धार्मिक भावना, तप-त्याग, दार्शनिक दृष्टि और अहंकार की भावना जागृत होती है जो पारिवारिक जीवन में विरक्ति लाती है और इससे संतान भाव प्रभावित होता है।
षडष्टक भकूट को महादोष माना गया है क्योंकि कुण्डली में छठा एवं आठवां भाव रोग व मृत्यु का माना जाता है। इस स्थिति के होने पर यदि विवाह होता है तो पारिवारिक जीवन में मतभेद, विवाद एवं कलह ही स्थिति बनी रहती है जिसके फलस्वरूप अलगाव, हत्या एवं आत्महत्या की घटनाएं घटित होती हैं। मेलापक के अनुसार षडाष्टक दोष हो तो विवाह नहीं करना चाहिए।
शेष तीन भकूट-प्रथम-सप्तम, तृतीय-एकादश तथा चतुर्थ-दशम शुभ होते हैं। शुभ भकूट का फल अधोलिखित है-
मेलापक में राशि यदि प्रथम-सप्तम हो तो विवाहोपरान्त दोनों का जीवन सुखमय होता है और उन्हे उत्तम संतान की प्राप्ति होती है।
वर कन्या का परस्पर तृतीय-एकादश भकूट हो तो उनकी आर्थिक स्थिति अच्छी रहने के कारण परिवार में समृद्धि रहती है।
जब वर कन्या का परस्पर चतुर्थ -दशम भकूट हो तो विवाहोपरान्त दोनों के मध्य परस्पर आकर्षण एवं प्रेम बना रहता है।
कुण्डली मिलान में जब अधोलिखित स्थितियां बनती हों तो भकूट दोष नहीं रहता है या भंग हो जाता है-
1. यदि वरवधू दोनों के राशि स्वामी परस्पर मित्र हों।
2. यदि दोनों के राशि स्वामी एक हों।
3. यदि दोनों के नवांश स्वामी परस्पर मित्र हों।
4. यदि दोनों के नवांश स्वामी एक हो।
कुण्डली मिलान में सुखद् गृहस्थ जीवन के लिए नाड़ी दोष के बाद भकूट विचार अवश्य विचार करना चाहिए। आठ गुणों में से ये दोनों गुण अधिक महत्वपूर्ण हैं।
============================================================
आइये जाने की विवाह मुहूर्त क्या है????

पंडित “विशाल” दयानंद शास्त्री,(मोब.-09669290067 एवं 09024390067 ) के अनुसार उत्तम मुहूर्त में शादी करने से वर-वधू का दांपत्य जीवन सुखमय बीतता है. बाधाएं उपस्थित नहीं होतीं हैं.अतः विवाह शुभ लग्न व मुहूर्त के साथ-साथ शुद्ध मंत्रोच्चार व विधि विधान से ही होना चाहिए…सभी ग्रह अपनी अपनी उपस्थिति जीवित अवस्था में बताते हैं यथा ब्रह्मांड तथा पिंडे के कथन के अनुसार प्रत्येक व्यक्ति सभी ग्रहों से पूर्ण है। संसार में पिता के रूप में सूर्य, माता के रूप में चंद्र भाई के और पति के रूप में मंगल, बहन, बुआ और बेटी के रूप में बुध, धर्म और भाग्य के प्रदाता तथा शिक्षा को देने वाले गुरु के रूप में वृहस्पति, पत्नी और भौतिक संपन्नता के रूप में शुक्र, जमीन-जायदाद कार्य तथा काम करने वाले लोगों के रूप में शनि, ससुराल और दूर के संबंधियों के रूप में राहु, पुत्र, भांजा साले आदि के रूप में केतु जीवित रूप में माने जाते हैं। इन सभी ग्रहों के अनुसार व्यक्ति के लिए विवाह मुहूर्त बनाए गए हैं, जिस प्रकार की प्रकृति व्यक्ति के अंदर होती है उसी प्रकार के ग्रह की शक्ति के समय में विवाह किया जाता है। जब स्त्री और पुरुष के आपसी संबंधों के लिए विवाह मिलान किया जाता है तथा दोनों के ग्रहों को राशि स्वामियों के अनुसार समय को तय किया जाता है तभी विवाह किया जाता है, और उसी ग्रह के नक्षत्र के समय में लगन और समय निकाल कर विवाह किया जाता है।

आइये जाने की कैसे होता है मुहूर्त संशोधन????

पंडित “विशाल” दयानंद शास्त्री,(मोब.-09669290067 एवं 09024390067 ) के अनुसार हिंदुओं में शुभ विवाह की तिथि वर-वधू की जन्म राशि के आधार पर निकाली जाती है। वर या वधू का जन्म जिस चंद्र नक्षत्र में हुआ होता है उस नक्षत्र के चरण में आने वाले अक्षर को भी विवाह की तिथि ज्ञात करने के लिए प्रयोग किया जाता है। विवाह कि तिथि सदैव वर-वधू की कुंडली में गुण-मिलान करने के बाद निकाली जाती है। विवाह की तिथि तय होने के बाद कुंडलियों का मिलान नहीं किया जाता।

आइये जाने की क्यों किया जाता है कुंडली मिलान???
विवाह स्त्री व पुरुष की जीवन यात्रा की शुरुआत मानी जाती है। पुरुष का बाया व स्त्री का दाहिना भाग मिलाकर एक-दूसरे की शक्ति को पूरक बनाने की क्रिया को विवाह कहा जाता है। भगवान शिव और पार्वती को अ‌र्द्धनारीश्वर की संज्ञा देना इसी बात का प्रमाण है। ज्योतिष में चार पुरुषार्थो में काम नाम का पुरुषार्थ विवाह के बाद ही पूर्ण होता है।
===========================================================
शुभ मूहूर्त के अनुसार विवाह में वर्जित काल —–

पंडित “विशाल” दयानंद शास्त्री,(मोब.-09669290067 एवं 09024390067 ) के अनुसार वैवाहिक जीवन की शुभता को बनाये रखने के लिये यह कार्य शुभ समय में करना उतम रहता है. अन्यथा इस परिणय सूत्र की शुभता में कमी होने की संभावनाएं बनती है. कुछ समय काल विवाह के लिये विशेष रुप से शुभ समझे जाते है. इस कार्य के लिये अशुभ या वर्जित समझे जाने वाला भी समय होता है. जिस समय में यह कार्य करना सही नहीं रहता है. आईये देखे की विवाह के वर्जित काल कौन से है.:-

1. नक्षत्र व सूर्य का गोचर —–
27 नक्षत्रों में से 10 नक्षत्रों को विवाह कार्य के लिये नहीं लिया जाता है ! इसमें आर्दा, पुनर्वसु, पुष्य, आश्लेषा, मघा, पूर्वाफाल्गुणी, उतराफाल्गुणी, हस्त, चित्रा, स्वाती आदि नक्षत्र आते है. इन दस नक्षत्रों में से कोई नक्षत्र हो व सूर्य़ सिंह राशि में गुरु के नवांश में गोचर कर तो विवाह करना सही नहीं रहता है.

2. जन्म मास, जन्मतिथि व जन्म नक्षत्र में विवाह —-इन तीनों समयावधियों में अपनी बडी सन्तान का विवाह करना सही नहीं रहता है. व जन्म नक्षत्र व जन्म नक्षत्र से दसवां नक्षत्र, 16वां नक्षत्र, 23 वां नक्षत्र का त्याग करना चाहिए !

3. शुक्र व गुरु का बाल्यवृ्द्धत्व—-शुक्र पूर्व दिशा में उदित होने के बाद तीन दिन तक बाल्यकाल में रहता है. इस अवधि में शुक्र अपने पूर्ण रुप से फल देने में असमर्थ नहीं होता है. इसी प्रकार जब वह पश्चिम दिशा में होता है. 10 दिन तक बाल्यकाल की अवस्था में होता है. शुक्र जब पूर्व दिशा में अस्त होता है. तो अस्त होने से पहले 15 दिन तक फल देने में असमर्थ होता है व पश्चिम में अस्त होने से 5 दिन पूर्व तक वृ्द्धावस्था में होता है. इन सभी समयों में शुक्र की शुभता प्राप्त नहीं हो पाती है.गुर किसी भी दिशा मे उदित या अस्त हों, दोनों ही परिस्थितियों में 15-15 दिनों के लिये बाल्यकाल में वृ्द्धावस्था में होते है.

उपरोक्त दोनों ही योगों में विवाह कार्य संपन्न करने का कार्य नहीं किया जाता है. शुक्र व गुरु दोनों शुभ है. इसके कारण वैवाहिक कार्य के लिये इनका विचार किया जाता है.

4. चन्द्र का शुभ/ अशुभ होना—चन्द्र को अमावस्या से तीन दिन पहले व तीन दिन बाद तक बाल्य काल में होने के कारण इस समय को विवाह कार्य के लिये छोड दिया जाता है. ज्योतिष शास्त्र में यह मान्यता है की शुक्र, गुरु व चन्द्र इन में से कोई भी ग्रह बाल्यकाल में हो तो वह अपने पूर्ण फल देने की स्थिति में न होने के कारण शुभ नहीं होता है. और इस अवधि में विवाह कार्य करने पर इस कार्य की शुभता में कमी होती है.

5. तीन ज्येष्ठा विचार—विवाह कार्य के लिये वर्जित समझा जाने वाला एक अन्य योग है. जिसे त्रिज्येष्ठा के नाम से जाना जाता है. इस योग के अनुसार सबसे बडी संतान का विवाह ज्येष्ठा मास में नहीं करना चाहिए. इस मास में उत्पन्न वर या कन्या का विवाह भी ज्येष्ठा मास में करना सही नहीं रहता है ! ये तीनों ज्येष्ठ मिले तो त्रिज्येष्ठा नामक योग बनता है.

इसके अतिरिक्त तीन ज्येष्ठ बडा लडका, बडी लडकी तथा ज्येष्ठा मास इन सभी का योग शुभ नहीं माना जाता है. एक ज्येष्ठा अर्थात केवल मास या केवल वर या कन्या हो तो यह अशुभ नहीं होता व इसे दोष नहीं समझा जाता है.

6. त्रिबल विचार—इस विचार में गुरु कन्या की जन्म राशि से 1, 8 व 12 भावों में गोचर कर रहा हो तो इसे शुभ नहीं माना जाता है.
गुरु कन्या की जन्म राशि से 3,6 वें राशियों में हों तो कन्या के लिये इसे हितकारी नहीं समझा जाता है. तथा 4, 10 राशियों में हों तो कन्या को विवाह के बाद दु:ख प्राप्त होने कि संभावनाएं बनती है.गुरु के अतिरिक्त सूर्य व चन्द्र का भी गोचर अवश्य देखा जाता है !इन तीनों ग्रहों का गोचर में शुभ होना त्रिबल शुद्धि के नाम से जाना जाता है.

7. चन्द्र बल—चन्द्र का गोचर 4, 8 वें भाव के अतिरिक्त अन्य भावों में होने पर चन्द्र को शुभ समझा जाता है. चन्द्र जब पक्षबली, स्वराशि, उच्चगत, मित्रक्षेत्री होने पर उसे शुभ समझा जाता है अर्थात इस स्थिति में चन्द्र बल का विचार नहीं किया जाता है.

8. सगे भाई बहनों का विचार—एक लडके से दो सगी बहनों का विवाह नहीं किया जाता है. व दो सगे भाईयों का विवाह दो सगी बहनों से नहीं करना चाहिए. इसके अतिरिक्त दो सगे भाईयों का विवाह या बहनों का विवाह एक ही मुहूर्त समय में नहीं करना चाहिए. जुडंवा भाईयों का विवाह जुडवा बहनों से नहीं करना चाहिए. परन्तु सौतेले भाईयों का विवाह एक ही लग्न समय पर किया जा सकता है. विवाह की शुभता में वृ्द्धि करने के लिये मुहूर्त की शुभता का ध्यान रखा जाता है.

9. पुत्री के बाद पुत्र का विवाह—पुत्री का विवाह करने के 6 सूर्य मासों की अवधि के अन्दर सगे भाई का विवाह किया जाता है. लेकिन पुत्र के बाद पुत्री का विवाह 6 मास की अवधि के मध्य नहीं किया जा सकता है. ऎसा करना अशुभ समझा जाता है. यही नियम उपनयन संस्कार पर भी लागू होता है. पुत्री या पुत्र के विवाह के बाद 6 मास तक उपनयन संस्कार नहीं किया जाता है दो सगे भाईयों या बहनों का विवाह भी 6 मास से पहले नहीं किया जाता है.

10. गण्ड मूलोत्पन्न का विचार—मूल नक्षत्र में जन्म लेने वाली कन्या अपने ससुर के लिये कष्टकारी समझी जाती है. आश्लेषा नक्षत्र में जन्म लेने वाली कन्या को अपनी सास के लिये अशुभ माना जाता है. ज्येष्ठा मास की कन्या को जेठ के लिये अच्छा नहीं समझा जाता है. इसके अलावा विशाखा नक्षत्र में जन्म लेने पर कन्या को देवर के लिये अशुभ माना जाता है. इन सभी नक्षत्रों में जन्म लेने वाली कन्या का विवाह करने से पहले इन दोषों का निवारण किया जाता है.
===========================================
क्या विवाह मुहूर्त में जरूरी है त्रिबल शुद्दि…???

पंडित “विशाल” दयानंद शास्त्री,(मोब.-09669290067 एवं 09024390067 ) के अनुसार विवाह मुहूर्त के लिए मुहूर्त शास्त्रों में शुभ नक्षत्रों और तिथियों का विस्तार से विवेचन किया गया है। उत्तराफाल्गुनी, उत्तराषाढ़, उत्तराभाद्रपद,रोहिणी, मघा, मृगशिरा, मूल, हस्त, अनुराधा, स्वाति और रेवती नक्षत्र में, 2, 3, 5, 6, 7, 10, 11, 12, 13, 15 तिथि तथा शुभ वार में तथा मिथुन, मेष, वृष, मकर, कुंभ और वृश्चिक के सूर्य में विवाह शुभ होते हैं। मिथुन का सूर्य होने पर आषाढ़ के तृतीयांश में, मकर का सूर्य होने पर चंद्र पौष माह में, वृश्चिक का सूर्य होने पर कार्तिक में और मेष का सूर्य होने पर चंद्र चैत्र में भी विवाह शुभ होते हैं।

पंडित “विशाल” दयानंद शास्त्री,(मोब.-09669290067 एवं 09024390067 ) के अनुसार विवाह मुहूर्त का विचार करते समय वर के लिए सूर्य का बल, कन्या के लिए बृहस्पति (गरू) का बल और वर-कन्या दोनों के लिए चंद्रमा के बल का विचार किया जाता है। यदि सूर्य, चंद्रमा तथा गुरू का बल पूर्ण नहीं हो तो विवाह नहीं किया जाता है। क्योंकि वर-कन्या के विवाह के समय गुरू जीवनदाता एवं भाग्य विधाता होते हैं। चंद्रमा धन देने वाले तथा मानसिक शांति प्रदान करते हैं। इसी प्रकार सूर्य तेज प्रदान करते हैं। कहने का अभिप्राय यह है कि ये सब ग्रह यदि विवाह के समय पूर्ण अनुकूल हों तो सर्वथा उत्तम हैं। वर-वधु के लिए सौभाग्यशाली होते हैं।
जन्म लग्न से अथवा जन्म राशि से अष्टम लग्न तथा अष्टम राशि में विवाह शुभ नहीं होते हैं। विवाह लग्न से द्वितीय स्थान पर वक्री पाप ग्रह तथा द्वादश भाव में मार्गी पाप ग्रह हो तो कर्तरी दोष होता है, जो विवाह के लिए निषिद्ध है। इन शास्त्रीय निर्देशों का सभी पालन करते हैं, लेकिन विवाह मुहूर्त में वर और वधु की त्रिबल शुद्धि का विचार करके ही दिन एवं लग्न निश्चित किया जाता है। कहा भी गया है—
स्त्रीणां गुरुबलं श्रेष्ठं पुरुषाणां रवेर्बलम्।
तयोश्चन्द्रबलं श्रेष्ठमिति गर्गेण निश्चितम्।।
अत: स्त्री को गुरु एवं चंद्रबल तथा पुरुष को सूर्य एवं चंद्रबल का विचार करके ही विवाह संपन्न कराने चाहिए। सूर्य, चंद्र एवं गुरु के प्राय: जन्मराशि से चतुर्थ, अष्टम एवं द्वादश होने पर विवाह श्रेष्ठ नहीं माना जाता। सूर्य जन्मराशि में द्वितीय, पंचम, सप्तम एवं नवम राशि में होने पर पूजा विधान से शुभफल प्रदाता होता है। गुरु द्वितीय, पंचम, सप्तम, नवम एवं एकादश शुभ होता है तथा जन्म का तृतीय, षष्ठ व दशम पूजा से शुभ हो जाता है। विवाह के बाद गृहस्थ जीवन के संचालन के लिए तीन बल जरूरी हैं— देह, धन और बुद्धि बल। देह तथा धन बल का संबंध पुरुष से होता है, लेकिन इन बलों को बुद्धि ही नियंत्रित करती है। बुद्धि बल का स्थान सर्वोपरि है, क्योंकि इसके संवर्धन में गुरु की भूमिका खास होती है। यदि गृहलक्ष्मी का बुद्धि बल श्रेष्ठ है तो गृहस्थी सुखद होती है, इसलिए कन्या के गुरु बल पर विचार किया जाता है। चंद्रमा मन का स्वामी है और पति-पत्नी की मन:स्थिति श्रेष्ठ हो तो सुख मिलता है, इसीलिए दोनों का चंद्र बल देखा जाता है। सूर्य को नवग्रहों का बल माना गया है। सूर्य एक माह में राशि परिवर्तन करता है, चंद्रमा 2.25 दिन में, लेकिन गुरु एक वर्ष तक एक ही राशि में रहता है। यदि कन्या में गुरु चतुर्थ, अष्टम या द्वादश हो जाता है तो विवाह में एक वर्ष का व्यवधान आ जाता है।
चंद्र एवं सूर्य तो कुछ दिनों या महीने में राशि परिवर्तन के साथ शुद्ध हो जाते हैं, लेकिन गुरु का काल लंबा होता है। सूर्य, चंद्र एवं गुरु के लिए ज्योतिषशास्त्र के मुहूर्त ग्रंथों में कई ऐसे प्रमाण मिलते हैं, जिनमें इनकी विशेष स्थिति में यह दोष नहीं लगता। गुरु-कन्या की जन्मराशि से गुरु चतुर्थ, अष्टम तथा द्वादश स्थान पर हो और यदि अपनी उच्च राशि कर्क में, अपने मित्र के घर मेष तथा वृश्चिक राशि में, किसी भी राशि में होकर धनु या मीन के नवमांश में, वर्गोत्तम नवमांश में, जिस राशि में बैठा हो उसी के नवमांश में अथवा अपने उच्च कर्क राशि के नवमांश में हो तो शुभ फल देता है।
त्रिबल विचार के लिए वर-कन्या की जन्म राशि से तत्समय जिन-जिन राशियों में गुरू-सूर्य तथा चंद्र विचरण कर रहे हों, वहां तक गिनती की जाती है तथा इनका निर्णय निम्न प्रकार से करते हैं-
वर के लिए सूर्य विचार- यदि वर की राशि से वर्तमान राशि में गतिशील सूर्य गिनती करने पर चौथे, आठवें या बारहवें स्थान में पड़ें तो ऎसे समय में विवाह नहीं करें यह पूर्णरू पेण अशुभ है। यदि पहले, दूसरे, पांचवें, सातवें या नवें स्थान में सूर्य पड़े तो सूर्य पड़े तो सूर्य के दान और पूजादि करके विवाह शुभ हो सकता है। वक्री राशि से यदि सूर्य तीसरे, छठे, दशवें या ग्यारहवें स्थानों में हों तो विवाह अधिक शुभप्रद होता है।

कन्या के लिए बृहस्पति विचार- कन्या की राशि से वर्तमान राशि में गतिशील गुरू यदि चौथे, आठवें या बारहवें स्थान में पड़े तो विवाह अशुभ होगा। ऎसे समय में विवाह नहीं करें। यदि पहले, तीसरे, छठे या दशवें स्थान में गुरू हों तो दान-पूजादि करने पर ही शुभकारक होता है। यदि दूसरे, पांचवे, सातवें, नौवें या ग्यारहवें स्थान में गुरू हों तो शुभप्रद होंगे। यानी विवाह करना शुभ रहेगा।

चंद्र विचार [दोनों के लिए]- यदि वर-कन्या दोनों की राशि से चंद्रमा चौथे, आठवें या बारहवें स्थान में पड़े तो अशुभ है। ऎसे में विवाह नहीं करें। अन्य सभी स्थानों पर चंद्रमा के रहते विवाह करना शुभ रहेगा।
सारांश यह है कि सूर्य-चंद्र तथा गुरू तीनों ही विवाह के समय यदि चौथे, आठवें या बारहवें स्थान पर पड़ें तो अशुभ होते हैं। इस समय विवाह नहीं करें। कुछ शास्त्रकार पुरूष के लिए बारहवें चंद्रमा को शुभ मानते हैं, परन्तु स्त्री के लिए बारहवां चंद्रमा सर्वथा निषिद्ध है। इसी प्रकार त्रिबल [सूर्य-चंद्र तथा गुरू] विचार में ग्यारहवां स्थान सर्वथा शुभ होता है।
सिंह राशि भी गुरु की मित्र राशि है, लेकिन सिंहस्थ गुरु वर्जित होने से मित्र राशि में गणना नहीं की गई है। भारत की जलवायु में प्राय: 12 वर्ष से 14 वर्ष के बीच कन्या रजस्वला होती है। अत: बारह वर्ष के बाद या रजस्वला होने के बाद गुरु के कारण विवाह मुहूर्त प्रभावित नहीं होता है.

Advertisements

One thought on “ज्येष्ठ (जेठ ) माह में शादी-विवाह और ज्योतिष–

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s