मुझसे मेरा हाल न पूछो —-

मुझसे मेरा हाल न पूछो —-
–( पंडित दयानंद शास्त्री”विशाल”)….
यारों यह सवाल ना पूछो,
जिंदा हूँ- इतना “विशाल” काफी है,
अगला-पिछला साल ना पूछो .
मैं रहता हूँ तन्हाई में,
मैं खुश हूँ इस रुसवाई में,
ले मैली चादर वफ़ा की मैं,
रहा ढूंढ खुदा “विशाल” हरजाई में .
इस चाहत की मिसाल न पूछो ,
जेहन में बसे खयाल ना पूछो ,
जिंदा हूँ- इतना “विशाल” काफी है,
अगला-पिछला साल ना पूछो .
—–( पंडित दयानंद शास्त्री”विशाल”)….

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s