मिथुन राशी ( का, की, कु, घ, ड:, छ, के, को, हा ) का राशिफल(2012 )—-

मिथुन राशी ( का, की, कु, घ, ड:, छ, के, को, हा ) का राशिफल(2012 )—-

2012 का यह राशिफल चन्द्र राशि आधारित है और वैदिक ज्‍योतिष के सिद्धान्‍तों के आधार पर तैयार किया गया है।
इस वर्ष शनिदेव के कारण आपको वर्ष भर राजनेताओ और उच्च अधिकारीयों से सम्बन्ध बेहतर बने रहेंगे..अगस्त माह में पंचम शनि का शुभ फल प्राप्त होगा..नोकरी में प्रमोशन,लम्बी यात्रा के साथ-साथ व्यावसायिक सफलता हाथ लगेगी..वहीँ गुरु के कारण वर्ष के पूर्वार्ध में शुभ परिणाम मिलेंगे..इसके बाद मई में नोकरी या व्यवसाय में कोई भी निर्णय बहुत सोच समझकर लेवें..मेहनत के बावजूद फल नहीं मिलने से निराशा-हताशा आपके मन में घर कर सकती है
यदि ध्यान नहीं रखा तो किसी साजिश के शिकार ही सकते हें..किसी योग्‍य और विश्वास पात्र व्‍यक्ति की सलाह के अनुसार कार्य करना उचित रहेगा.अपनी क्षमता के अनुसार ही किसी कार्य को विस्तार देवें..परिवार में संतान के लिए मांगलिक कार्य में सफलता मिलेगी.. इस वर्ष वृषभ राशी में पंचम भाव में शनि देव का भ्रमण एक दफा फिर से शुभ फल देगा..संतान का रवैया सहयोगात्‍मक रहेगा. व्यापार में सफलता मिलेगी. बदलता मौसम सेहत खराब कर सकता है. माता- पिता से अनबन होने की संभावना हैविशेष रूप से अगस्त माह में..गुरु देव अभी एकादश भाव में हें किन्तु मई से द्वादश भाव में और राहू छटे भाव में अधिक लाभकारी रहेंगे..एकाग्रचित्त होकर काम करें, सफलता अवश्‍य मिलेगी.
स्वास्थ्य —-इस वर्ष आपका स्वास्थ मंगल एवं बुध के कारण प्रभावित रहेगा .सेहत का विशेष ध्यान रखने की जरूरत है. .इस कारण गुप्त-चर्म रोग,मानसिक परेशानी के साथ-साथ गले और छाती में परेशानी भी रह सकती हें..सर्दी और ठंडी हवा से खुद को बचाकर रखें..
ये करें उपाय—
01 .-भगवान वृहस्पति की सेवा,पूजा आराधना करें..लाभ होगा..
02 .–गुरुवार के दिन “”ॐ ह्लीं क्लिं हुंम वृह्स्पत्ये नमः”” मन्त्र का जप करें..
03 .–अपनी जन्मपत्री अनुसार परामर्श लेकर पुखराज,सुनेला या फिर स्फटिक अथवा..पन्ना/ओनेक्स/मरगज रत्न धारण भी लाभदायक रहेगा…
04 .–गुरुवार के दिन केले के पेड़ में हल्दी,गुड और चना दाल अर्पित करें..
05 .–गणेश जी की सेवा,पूजा आराधना करें..बुधवार के दिन..बुध यंत्र की पूजा करें..दुर्गा सप्तशती का पाठ करें बुधवार के दिन..
06 .–संभव हो तो बुधवार के दिन गायों को हरी घास खिलाएं…इस दिन गणेश जी को दूर्वा अर्पित करें..बुधवार का व्रत-उपवास रखें..हरी सामग्री ( पालक,मेथी,कद्दू ,हरे मुंग की दाल,आंवले और हरे मटर ) का दान भी लाभ देगा..
07 .–किसी युवा स्त्री को हरे वस्त्र /हरी वस्तु शाम के समय किसी भी बुधवार के दिन दान करें..
08 .–अपने भोजन में हरी सामग्री ( पालक,मेथी,कद्दू ,हरे मुंग की दाल,आंवले और हरे मटर ) का प्रयोग करें..लक्ष्मी की उपासना करें..
वास्तु और मिथुन राशी के जातक–इस राशी वालों के लिए पूर्व -पश्चिम दिशा निवास करने के लिए..ठीक रहती हें ..शुभ और लाभदायक साबित होती हें..इस राशी वालों को अपने मकान/आवास पर हरे रंग का प्रयोग करना चाहिए..इस राशी वाले जातक किसी भी नगर के मध्य भाग/ हिस्से में निवास करने से बचना चाहिए

Advertisements

One thought on “मिथुन राशी ( का, की, कु, घ, ड:, छ, के, को, हा ) का राशिफल(2012 )—-

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s