मेरे जज्बात/ख़यालात..

सब रख दिया है ताक़ पे हिजाब उठा कर …..
लड़ने चुनाव वो चले निक़ाब उठा कर …..
लाये जो लोग दूर से अज़ाब उठा कर …..
जूडे में वो लगा लिए गुलाब उठा कर …..
घर में हमारे आ गया है चाँद सा महबूब ……
हमने भी रख दी हें शराब उठाकर आज से…
जब नहीं दे सके हमें ये जिंदगी में कुछ ..
गुस्से में फेंक दिए सारे ख़िताब उठाकर..
सबसे छुपा के रखे थे जो उनके ख़त …
वो सभी ले गए जनाब उठाकर…
घर में ना लाया कीजिये चीजें ख़राब उठाकर ….
लो फेंक दी जनाब ने नकाब उठाकर …..
सब रख दिया है ताक़ पे हिजाब उठा कर …..
लड़ने चुनाव वो चले निक़ाब उठा कर …..
====================================
रास्ते में ही छोड़कर उन्हे जाने कि आदत है
वो मेरे हर झूठ से खुश होती,
जिसे हमेशा सच बोलने की आदत थी,
वो एक आंसू भी गिरने पर खफा होती थी,
जिसे तन्हाई में रोने की आदत थी,
वो कहती थी की मुझे भूल जाओगे,
जिसे मेरी हर बात याद रखने की आदत थी,
हमेशा माफ़ी मांगने के बहाने से,
रोज़ गलतियाँ करना उसकी आदत थी,
वो जो दिल जान न्योछावर करती थी मुझ पर,
मगर छोटी सी बात पर रूठना उसकी आदत थी,
हम उसके साथ चल दिए पर ये नहीं जानते थे,
की रास्ते में ही छोड़कर उन्हे जाने कि आदत है,,
===================================================
मना लूँगा आपको रुठकर तो देखो,
जोड़ लूँगा आपको टूटकर तो देखो।
नादाँ हूँ पर इतना भी नहीं ,
थाम लूँगा आपको छूट कर तो देखो।
लोग मोहब्बत को खुदा का नाम देते है,
कोई करता है तो इल्जाम देते है।
कहते है पत्थर दिल रोया नही करते,
और पत्थर के रोने को झरने का नाम देते है।
भीगी आँखों से मुस्कराने में मज़ा और है,
हसते हँसते पलके भीगने में मज़ा और है,
बात कहके तो कोई भी समझलेता है,
पर खामोशी कोई समझे तो मज़ा और है…!
मुस्कराना ही ख़ुशी नहीं होती,
उम्र बिताना ही ज़िन्दगी नहीं होती,
==================================================
Kya Kahe Hum Dil Ka Haal ,Zubaan Pe Koi Shabd Nahi,
Pyar Ek Gunaah Hai ,Isse Galat Kuch Bhi Nahi,
Zindagi Ki Khoobsurati Samet Leta Hai Ye Pyaar,
Sabse Bura Hota Ye Shabd Agar Isme Juda No Hota Yaar.
Baat Ker Rahe Hai Hum ,Mehbbob Wale Pyar Ki,
Jiski Hume Bhi Is Duniya Mein Kabhi Talash Thi.
Jab Tak Chale Tab Tak Isse Acchi Koi Bhawna Nahi,
Per Agar Tut Jaye Ye To Maut Bhi Isse Sahi.
Kehte Sabhi Hai Waqt Bhar Deta Hai Dil Ke Ghaw Sabhi,
Per Waqt Bhi Deta Hai Dhokha Ye Humne Kabhi Socha Nahi.
Sach Kahu To Pyar Jaisi Koi Chij Nahi Is Jahaan Mein,
Bus Kuch Pal Ki Khushiyaan Hai Ye Jo Gum Ho Jati Hai Shaaman Mein.
Tod Ker Rakh Deti Hai Saasein Dil Bhi Rehta Hai Bechain,
=======================================================

Wo raat thi k kahin chand ka guzar hi na था

Tumharay sheher ki har chaun mehrbaan thi mager
Jahan pay dhoop karri thi wahan Shajer hi na tha…
wo pani ki lehron pay kya likh rahi thi
khuda janay, harf-e-dua likh rahi thi
likha jis nay nawal wafa ka adhora
wohi pyar ki ,inteha likh rahi thi
bhala kartay kartay guzari jawani
magar pir bi khud ko ,bura likh rahi thi
muhabbat mai nafrat mili thi usay bi
jo har shakas ko ,bewafa likh rahi thi
zara uski ankhoon se ansoo na niklay
wo jis waqat lafz ,saza likh rahi thi
namaz-e-muhabbat mai wo apnay
hoay thay jo sajjday, kaza likh rahi thi
===========================================================
Wo Kehta He
Batao

Be-Sabab Kyun Rooth Jaty Ho.?

Mn kehta hon!

Zara Mujh Ko Manao,

Acha Lagta Hy..

Wo Kehta Hy

Mera Dil Tum Se Aakhir Kyun Nhi Bh@rta.?

Mn Keht Hon.!

Mohabbat Ki Koi Hadd He Nhi Hoti..

Wo Kehta Hy.!

Batao

Mn Tumhen Kyun Bhaa Gaya Itna.?

Mn Kehta Hon.!

Meri Jaan Haadsey To Ho He Jaty Hain..

Wo Kehta Hy.!

Achanak Mn Tumhein Youn He Rulaa Doon To.?

Mn Kehta Hon.!

Mujhy Dar Hy K Tum Bhi Bheeg Jao Ge…

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s