क्या हें वास्तुशास्त्र की सार्थकता ,उपयोगिता एवं प्रासंगिकता?????

क्या हें वास्तुशास्त्र की सार्थकता ,उपयोगिता एवं प्रासंगिकता?????
(How to make life happy and prosperous by VASTUSHASTR???)
वास्तुशास्त्र भारत का अत्यन्त प्राचीन शास्त्र है। वैदिक काल में इसे स्थापत्यवेद की संज्ञा दी गयी। वेदों के प्रति हमारी श्रध्दा और विश्वास आज भी उतने ही दृढ़ हैं जितने पहले थे किन्तु वर्तमान में इस शास्त्र क प्रति संदेह व्यक्त किये जाते हैं जबकि स्थान-स्थान पर खुदाई में प्राप्त प्राचीन बस्तियों के भग्नावेश इस बात के साक्षी हैं कि प्राचीन समय में मंदिर, प्रासाद, बस्तियों एवं नगरों का निर्माण वास्तुशास्त्र के सिध्दांतों के अनुसार ही होता था और इसी कारण लोग अपेक्षाकृत अधिक सुखी थे।
मानव सभ्यता के विकास एवं विज्ञान की उन्नति के साथ भवन निर्माण कला में अनेकानेक परिवर्तन होते गये। जनसंख्या में द्रूतगति से होती वृध्दि और भूखण्डों की सीमित संख्या जनसामान्य की अशिक्षा और वास्तुग्रंथों के संस्कृत में लिखे होने एवं मुद्रण प्रणाली के विकसित न होने के कारण इस शास्त्र की उत्तरोत्तर अवहेलना होगी गयी। विदेशी शासकों के बार-बार हुए आक्रमणों एवं अंग्रेजों के भारत में आगमन के पश्चात् पाश्चात्य सभ्यता के अंधानुकरण में हम अपने समृध्द ज्ञान के भंडार पर पूर्णरूप से अविश्वास कर इसे कपोल कल्पित, भ्रामक एवं अंधविश्वास समझने लगे।प्रकृति की ऊर्जा शक्तियों के संतुलित उपयोग से जीवन को खुशहाल और समृद्धिदायक कैसे बनायें? इसका व्यवस्थित अध्ययन और व्यावहारिक उपयोग करना ही वास्तु विज्ञान है।
वास्तु के सिद्धांतों का परिपालन करके बनाये गये मकान में रहने वाले प्राणी सुख, शांति, स्वास्थ्य, समृद्धि इत्यादि प्राप्त करते हैं। जबकि वास्तु के सिद्धांतों के विपरीत बनाये गये मकान में रहने वाले देर-सवेर इन्हीं बातों के प्रति प्रतिकूलता का अनुभव करते हैं एवं कष्टपद जीवन व्यतीत करते हैं। कई सज्जनों के मन में यह शंका होती है कि वास्तु विषय का अधिकतम उपयोग आर्थिक दृष्टि से संपन्न वर्ग ही करते हैं। मध्यम वर्ग के लिये इस विषय का उपयोग कम होता है। निस्संदेह यह धारणा गलत है। वास्तु विषय किसी वर्ग या जाति विशेष के लिये ही नहीं है, बल्कि वास्तु विज्ञान संपूर्ण मानव जाति के लिये प्रकृति की ऊर्जा शक्तियों का एक अनुपम वरदान है।जिस प्रकार सूर्य की किरणें अमीर-गरीब एवं किसी जाति विशेष का भेदभाव किये बिना सभी को समान रूप से प्रभावित करती है, उसी प्रकार वास्तु के पंच तत्वों का उचित संतुलन सभी को बिना किसी भेदभाव के समान रूप से प्रभावित करता हैं। यह व्यक्ति की स्वयं की इच्छा शक्ति की योग्यता पर निर्भर करता है कि वास्तु विज्ञान के इस अनमोल खजाने से वह कितना ज्ञान ग्रहण करके इसके उपयोग से लाभान्वित हो सकता है।

किन्तु अब जब से विदेशों में हमारे इस शास्त्र को मान्यता प्राप्त हुआ है। जर्मनी, अमेरिका, चीन, जापान आदि देशों में इन ग्रंथों के अनुवाद और सिध्दांतों का अनुपालन आरम्भ हुआ है तो हमने भी इस ओर ध्यान दिया है। किन्तु किसी भी विद्या को पूर्ण और विज्ञान मानने से पूर्व उसे विज्ञान के अनिवार्य पांच तत्वों की कसौटी पर परखना आवश्यक है। ये तत्व है तर्क संगतता और सिध्दान्तता, साध्यता, स्थायित्व, उपयोगिता एवं सर्वग्राह्यता। क्या वास्तु विद्या इस कसौटी पर खरी उतरती है? आइये परखें।भारत के अलावा कई पश्चिमी देशों में भूमि पूजन या नींव पूजन आदि नहीं कराये जाते तब भी वहां सब ठीक रहता है.’ वास्‍तु विषय के मुताबिक पूजन कराना अनिवार्य शर्त नहीं बल्कि एक सुविधा है। यानि अगर पूजन नहीं भी कराया है तो उस घर में सुखी और समृद्ध बनकर रहा जा सकता है। लेकिन अब भी वास्‍तु के नियम वही रहेंगे।
वास्तु कला का सीधा सम्बन्ध प्राचीन शिल्पशास्त्रिय कला से है | प्राचीन शिल्प-शास्त्रियों ने भवन निर्माण कला, वास-वसति-विज्ञानं के सम्बन्ध में ही वास्तु शब्द को लक्षित किया था | वास्तु शब्द का लक्षण, धरा (भूमि), हमर्ययाँ एवं पर्यक से भी है | इन्ही से नागरिक शास्त्र का प्रादुर्भाव हुआ | संभवतया वास्तु का सम्बन्ध पहले राष्ट्र से, फिर नगर से , ग्राम से, तत्पश्चात स्थान विशेष से है अतः गाँव बसेगा तो नगर बसेगा, गाँव बसेगा तो मानव बसेगा | घरों, भवनों आदि के निर्माण योग्य स्थान का ही दूसरा नाम नगर है इसलिए नगर-निवेश (योजना) वास्तुशास्त्र का सर्वाधिक महत्वपूर्ण एवं प्रमुख अंग है साथ ही प्रधान विषय भी है |
वास्तुविद्या में भवन पर सूर्य रश्मियों का वही प्रभाव डालने का प्रयास है जो सूर्य रश्मियों का इस पृथ्वी पर है। पृथ्वी अपनी धुरी पर पूर्व की ओर 23.50 डिग्री झुकी हुई है। इस कारण उसका उत्तर भाग, ईशान और पूर्वी भाग पूर्व की ओर झुक गये हैं दक्षिण, नैऋत्य एवं पश्चिम भाग कुछ ऊंचे उठ गये हैं। भवन निर्माण में इसी सिध्दांत के अनुसार भूखण्ड और ढलान पूर्व, उत्तर एवं ईशान और होना तथा भूखण्ड का दक्षिणी भाग, नैऋत्य तथा पश्चिमी भाग ऊंचा होना निर्दिष्ट है। अनुभव से ही यही बात सिध्द होती है कि भवन दक्षिण पश्चिम में ऊंचे तथा ऊंचाई पर निर्मित होते हैं तथा जिनका ढलान पूर्व, उत्तर एवं ईशान की ओर होता है अर्थात् जिनक, प्रयोग लाया गया जल एवं वर्षा का जल ईशान कोण से अथवा पूर्व उत्तर की ओर से बहकर बाहर निकलता हो वहां के निवासी आरोग्य, समृध्दि एवं पारिवारिक शांति का अनुभव करते हैं तथा इससे विपरीत दिशा वालें संकट और विघ्नों से घिरे रहते हैं।
वास्तुशास्त्र को लेकर हर प्रकार से प्रयोग किया जा सकता है। भूखण्ड एवं भवन के दोषपूर्ण होने पर उसे उचित प्रकार से वास्तुनुसार साध्य बनाया जा सकता है। हमने अपने अनुभव से जाना है कि जिन घरों के दक्षिण में कुआं पाया गया उन घरों की गृहस्वामिनी का असामयिक निधन आकस्मिक रूप से हो गया तथा घर की बहुएं चिरकालीन बीमारी से पीड़ित मिली। जिन घरों या औद्योगिक संस्थानों ने नैऋत्य में बोरिंग या कुआं पाया गया वहां निरन्तर धन नाश होता रहा, वे राजा से रंक बन गये, सुख समृध्दि वहां से कोसों दूर रही, औद्योगिक संस्थानों पर ताले पड़ गये। जिन घरों या संस्थानों के ईशान कोण कटे अथवा भग्न मिले वहां तो संकट ही संकट पाया गया। यहां तक कि उस गृहस्वामी अथवा उद्योगपति की संतान तक विकलांग पायी गयी। जिन घरों के ईशान में रसोई पायी गयी उन दम्पत्तियों के यहां कन्याओं को जन्म अधिक मिला या फिर वे गृह कलह से त्रस्त मिले। जिन घरों में पश्चिम तल नीचा होता है तथा पश्चिमी नैऋत्य में मुख्य द्वार होती है, उनके पुत्र मेधावी होने पर भी निकम्मे तथा उल्टी-सीधी बातों में लिप्त मिले हैं।किसी भी स्‍थान की अवस्‍था को वास्‍तु कहा जा सकता है। स्‍थान की अवस्‍था का आकलन करने के लिए यह देखा जाएगा कि वह कहां स्थित है, हवा, पानी, रोशनी आदि की कैसी व्‍यवस्‍था है, घर के बाहर के क्‍या हालात हैं आदि। यह तो हुई स्‍थान की इंडिपेंडेंट बात। अब उस स्‍थान के मालिक और स्‍थान में भी एक संबंध होता है। यही संबंध तय स्‍थान पर हुए निर्माण में दृष्टिगोचर होता है।
वास्तु का प्रभाव चिरस्थायी है, क्योंकि पृथ्वी का यह झुकाव शाश्वत है, ब्रह्माण्ड में ग्रहों आदि की चुम्बकीय शक्तियों के आधारभूत सिध्दांत पर यह निर्भर है और सारे विश्व में व्याप्त है इसलिए वास्तुशास्त्र के नियम भी शाश्वत है, सिध्दांत आधारित, विश्वव्यापी एवं सर्वग्राहा हैं। किसी भी विज्ञान के लिए अनिवार्य सभी गुण तर्क संगतता, साध्यता, स्थायित्व, सिध्दांत परकता एवं लाभदायकता वास्तु के स्थायी गुण हैं। अतः वास्तु को हम बेहिचक वास्तु विज्ञान कह सकते हैं।
जैसे आरोग्यशास्त्र के नियमों का विधिवत् पालन करके मनुष्य सदैव स्वस्थ जीवन व्यतीत कर सकता है, उसी प्रकार वास्तुशास्त्र के सिध्दांतों के अनुसार भवन निर्माण करके प्रत्येक मनुष्य अपने जीवन को सुखी बना सकता है। चिकित्साशास्त्र में जैसे डाक्टर असाध्य रोग पीड़ित रोगी को उचित औषधि में एवं आपरेशन द्वारा मरने से बचा लेता है उसी प्रकार रोग, तनाव और अशांति देने वाले पहले के बने मकानों को वास्तुशास्त्र के सिध्दांतों के अनुसार ठीक करवा लेने पर मनुष्य जीवन में पुनः आरोग्य, शांति और सम्पन्नता प्राप्त कर सकता है।
प्रकृ्ति द्वारा पाँच आधारभूत तत्वों—-भूमी,जल,अग्नि,वायु और आकाश से ही यह सम्पूर्ण ब्राह्मंड रचा गया है और ये पाँचों पदार्थ ही पंच महाभूत कहे जाते हैं. इन पंच तत्वों के प्रभावों को समझकर,उनका सामंजस्य बनाए रखे हुए,उनके अनुसार अपने भवन के आकार-प्रकार से,मनुष्य अपने जीवन को अधिक सुखी एवं सुविधासम्पन्न बना सकता है. दिशाओं के अनुसार भवनों की स्थिति और विन्यास का उसमें निवास करने वालों के जीवन पर सीधा एवं स्पष्ट प्रभाव पडता है.
सूर्य,चन्द्रादि अन्य ग्रहों तथा तारों आदि का पृ्थ्वी के वातावरण पर क्या प्रभाव पडता है ? अति प्राचीन काल में इसका पर्याप्त अध्ययन-मनन करने के उपरान्त ही अनुभव के आधार पर इस शास्त्र का जन्म हुआ है. सूर्य इस ब्राह्मंड की आत्मा है और उर्जा का मुख्य स्त्रोत. सूर्य और अन्य तारों से प्राप्त उष्मा और प्रकाश,समस्त आकाशीय पिंडों की परस्पर आकर्षण शक्ति,पृ्थ्वी पर उत्पन चुम्बकीय बल क्षेत्र और इस प्रकार के अन्य भौतिक कारकों का पृ्थ्वी की भौतिक दशा,वातावरण और जलवायु पर निश्चित प्रभाव पडता है. और इन सब का अनुकूल,या प्रतिकूल प्रभाव पडता है मानव जीवन पर. अत: वास्तु शास्त्र का ज्योतिष और खगोल से अति निकट सम्बंध है. मनुष्य के रहन-सहन को बहुत हद तक, ज्योतिष और खगोल संबंधी कारक प्रभावित करते हैं. अत: वास्तु शास्त्र के समस्त सिद्धान्त ज्योतिष विद्या पर आधारित हैं. किसी भी प्रकार का निर्माण कार्य करने से पूर्व इन सब सिद्धान्तों पर भली प्रकार से विचार कर लेना ही मनुष्य के लिए कल्याणकारी है.
जब तक मनुष्य के ग्रह अच्छे रहते हैं वास्तुदोष का दुष्प्रभाव दबा रहता है पर जब उसकी ग्रहदशा निर्बल पड़ने लगती है तो वह वास्तु विरुध्द बने मकान में रहकर अनेक दुःखों, कष्टों, तनाव और रोगों से घिर जाता है। इसके विपरीत यदि मनुष्य वास्तु शास्त्र के अनुसार बने भवन में रहता है तो उसके ग्रह निर्बल होने पर भी उसका जीवन सामान्य ढंग से शांति पूर्ण चलता है।
शास्तेन सर्वस्य लोकस्य परमं सुखम्
चतुवर्ग फलाप्राप्ति सलोकश्च भवेध्युवम्
शिल्पशास्त्र परिज्ञान मृत्योअपि सुजेतांव्रजेत्
परमानन्द जनक देवानामिद मीरितम्
शिल्पं बिना नहि देवानामिद मीरितम्
शिल्पं बिना नहि जगतेषु लोकेषु विद्यते।
जगत् बिना न शिल्पा च वतंते वासवप्रभोः॥
विश्व के प्रथम विद्वान वास्तुविद् विश्वकर्मा के अनुसार शास्त्र सम्मत निर्मित भवन विश्व को सम्पूर्ण सुख, धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष की प्राप्ति कराता है। वास्तु शिल्पशास्त्र का ज्ञान मृत्यु पर भी विजय प्राप्त कराकर लोक में परमानन्द उत्पन्न करता है, अतः वास्तु शिल्प ज्ञान के बिना निवास करने का संसार में कोई महत्व नहीं है। जगत और वास्तु शिल्पज्ञान परस्पर पर्याय हैं।
क्षिति जल पावक गगन समीरा, पंच रचित अति अघम शरीरा।
मानव शरीर पंचतत्वों से निर्मित है- पृथ्वी, जल आकाश, वायु और अग्नि। मनुष्य जीवन में ये पंचमहाभूत महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। इनके सही संतुलन पर ही मनुष्य की बुध्दि का संतुलन एवं आरोग्य निर्भर हैं जिसमें वह अपने जीवन में सही निर्णय लेकर सुखी जीवन व्यतीत करता है। इसी प्रकार निवास स्थान में इन पांच तत्वों का सही संतुलन होने से उसके निवासी मानसिक तनाव से मुक्त रहकर सही ढंग से विचार करके समस्त कार्य सम्पन्न कर पायेंगे और सुखी जीवन जी सकेंगे।

इस ब्रह्माण्ड में अनेक ग्रह हैं किन्तु जीवन केवल पृथ्वी पर ही है, ऐसा क्यों? इसका कारण यही है केवल पृथ्वी पर ही इन पंचमहाभूतों का सही संतुलन है। वर्तमान परिवेश में विश्व के सभी देशों में हिंसा और आतंकवाद का बोलबाला है। प्रतिदिन स्थान-स्थान पर दिन दहाड़े होने वाले अमानुषिक कृत्य, हिंसा, हत्या, लूटपाट, जलाने-मारने की घटनायें मानव को सदैव आतंकित और तानवग्रस्त रखती हैं। मानवीय संवेदनाएं लुप्त हो रही है। ईमानदारी और नैतिकता की बातें व्यक्ति को बुरी लगती है। मूल्यहीनता के वातावरण में मानव में सहयोग, सद्भाव, संवेदना और भाईचारे के स्थान पर असहयोग, अलगाव,र् ईष्या तथा पारस्परिक विद्वेष पनप रहा है। ऐसी स्थिति में हमारे लिए वास्तुशास्त्र ही एक मात्र आधार है जिसका अध्ययन और अनुकरण करके हम विश्व में पुनः शांति स्थापित कर सकते हैं। सच पूछा जाये तो यह तनाव, अशांति एवं अमानवीय कृत्य सम्पूर्ण विश्व में वास्तु सिध्दांतों की अवहेलना करने के कारण ही दिनों-दिन बढ़ते जा रहे हैं।
अपने देश भारत के मानचित्र पर दृष्टिपात करें। भारत के उत्तर में विश्व में सर्वाधिक उच्च पर्वत नगाधिराज हिमालय औरर दक्षिण में नीची भूमि वाला हिन्द महासागर है। इसके आग्नेय, नैऋत्य और पश्चिम में भी जल है परिणामस्वरूप यहां सदैव गृहयुध्द, आक्रमण, विदेशियों द्वारा लूटपाट धन सम्पत्ति का हरण और नाश होता रहा है। दक्षिण में जल होने के कारण यहां की महिलाएं सदैव दुःखी रही है, वे जलने मरने को बाध्य हैं चाहे जौहर के रूप में, सती के रूप में या अब दहेज की बलिदेवी पर।
उन पर सदैव अत्याचार होते रहे हैं। भारत के ईशान और पूर्वी भाग पश्चिम से कुछ नीचे झुके हुए तथा बढ़े हुए होने के कारण ही यह देश अपने आध्यात्म, संस्कृति दर्शन तथा उच्च जीवन मूल्यों एवं धर्म से समस्त विश्व को सदैव प्रभावित करता रहा है। वास्तु का प्रभाव मंदिरों पर भी होता है, विश्व प्रसिध्द तिरूपति बालाजी का मंदिर वास्तु सिध्दांतों का सर्वश्रेष्ठ उदाहरण है, वास्तुशास्त्र की दृष्टि से यह मंदिर शत प्रतिशत सही बना हुआ है।
इसी कारण यह संसार का सबसे धनी एवं ऐश्वर्य सम्पन्न मंदिर है जिसकी मासिक आप करोड़ों रुपये है। यह मंदिर तीन ओर से पहाड़ियों से घिरा हुआ है किन्तु उत्तर और ईशान नीचा है। वहां पुष्करणी नदी है, उत्तर में आकाश गंगा तालाब स्थित है जिसके जल से नित्य भगवान की मूर्ति को स्ान कराया जाता है। मंदिरों पूर्वमुखी है और मूर्ति पश्चिम में पूर्व मुखी रखी गई है।
इसके ठीक विपरीत कोणार्क का सूर्य मंदिर है। अपनी जीवनदायिनी किरणों से समस्त विश्व को ऊर्जा, ताप और तेज प्रदान करने वाले भुवन भास्कर सूर्य के इस प्राचीन अत्यन्त भव्य मंदिर की वह भव्यता, वैभव और समृध्दि अधिक समय तक क्यों नहीं टिक पायीं? इसका कारण वहां पर पाये गये अनेक वास्तु दोष हैं। मुख्यतः मंदिर का निर्माण स्थल अपने चारों ओर के क्षेत्र से नीचा है। मंदिर के भूखण्ड में उत्तरी वायव्य एवं दक्षिणी नैऋत्य बढ़ा हुआ है जिनसे उत्तरी ईशान एवं दक्षिणी आग्नेय छोटे हो गये हैं। रथनुमा आकार के कारण मंदिर का ईशान और आग्नेय कट गये हैं तथा आग्नेय में कुआं है। इसी कारण भव्य और समृध्द होने पर भी इस मंदिर की ख्याति, मान्यता एवं लोकप्रियता नहीं बढ़ सकी।
इसी प्रकार विश्व के मानचित्र पर स्थित सभी देशों को वास्तुशास्त्र के आधार पर परखा जा सकता है और सभी देशों के मुख्य स्थलों को भी, जिनके निरीक्षण, अध्ययन और परखने पर हमें वास्तुशास्त्र के सिध्दांतों की सत्यता और उपयोगिता के दर्शन होते हैं और इसके प्रति हमारा विश्वास और भी दृढ़ हो जाता है।
वायव्य कोण में ही एक अन्य शक्ति छुपी हुई है। इस स्थान में उच्चाटन कीशक्ति है। किसी युवा पढऩे वाले बच्चे को यदि सलेक्शन कराके बाहर भेजना होतो यह स्थान उत्तम है। विवाह के योग्य कन्याएं यहां शयन करें तो शीघ्र विवाहहो सकता है। मैंने बहुत सारे उद्योगों में तैयार माल को यहां रखवाया तो वहशीघ्र ही बिक गया। यह इस बात का प्रमाण है कि पृथ्वी के कण-कण में जीव हैऔर वायव्य कोण में चाहे जीवित व्यक्ति हो, चाहे पदार्थ हो, सबका उच्चाटन होजाता है।
दक्षिण दिशा में तो स्थायित्व की शक्ति है और अगर वहां कोई वस्तु रखी जाएतो वह घर से बाहर ही नहीं निकलती। आप अपने घरों में देख सकते हैं किदक्षिण से दक्षिण पश्चिम के बीच में चाहे काठ-कबाड़ ही हो, बहुत समय तकवहां पड़ा ही रहता है। उत्तर दिशा का अलग चरित्र है। धर्मक्षेत्र है। वहां रखीदवाइयां ज्यादा काम करती हैं। इस स्थान में आमतौर से शांति होती है और जोवहां सोता है उसकी उन्नति होती है।
जनसंख्या के आधिक्य एवं विज्ञान की प्रगति के कारण आज समस्त विश्व में बहुमंजिली इमारतों का निर्माण किया जा रहा है। जनसामान्य वास्तु सिध्दांतों के विरुध्द बने छोटे-छोटे फ्लेट्स में रहने के लिए बाध्य है। कहा जाता है कि इन्हें वास्तुशास्त्र के अनुरूप नहीं बनाया जा सकता।
पर यदि राज्य सरकारें वास्तुशास्त्र के सिध्दांतों के अनुसार कॉलोनी निर्माण करने की ठान ही लें और भूखण्डों को आड़े, तिरछे, तिकाने, छकोने न काटकर सही दिशाओं के अनुरूप वर्गाकार या आयताकार काटें, मार्गों को सीधा निकालें एवं कॉलोनाइजर्स का बाध्य करें कि उन्हें वास्तुशास्त्र के सिध्दांतों का अनुपालन करते हुए ही बहुमंजिली इमारतें तथा अन्य भवन बनाने हैं तो शत-प्रतिशत तो न सही पर साठ प्रतिशत तक तो वास्तुशास्त्र के नियमों के अनुसार नगर, कॉलोनी, बस्ती, भवनों, औद्योगिक-व्यापारिक केन्द्रों तथा अन्य का निर्माण किया जा सकता है जिसके फलस्वरूप जन सामान्य सुख, शांति पूर्ण एवं अरोग्यमय, तनाव रहित जीवन व्यतीत कर सकता है।
हमारे प्राचीन साहित्य में वास्तु का अथाह महासागर विद्यमान है। आवश्यकता है केवल खोजी दृष्टि रखने वाले सजग गोताखोर की जो उस विशाल सागर में अवगाहन कर सत्य के माणिक मोती निकाल सके और उस अमृत प्रसाद को समान रूप से जन सामान्य में वितरित कर सुख और समृध्दि का अप्रतिम भण्डार भेंट कर सकें, तभी वास्तुशास्त्र की सही उपयोगिता होगी।
हमारे जीवन में वास्तु का महत्व बहुत ही आवश्यक है। इस विषय में ज्ञान अतिआवश्यक है। वास्तु दोष से व्यक्ति के जीवन में बहुत ही संकट आते हैं। ये समस्याएँ घर की सुख-शांति पर प्रभाव डालती हैं। आप निम्न व्यवसाय स्थल तथा निवास में परिवर्तन कर लाभ उठा सकते हैं।.
हमारी भारतीय हिन्दू संस्कृ्ति अपने आप में एक ऎसी विलक्षण संस्कृ्ति रही है,जिसका प्रत्येक सिद्धान्त ज्ञान-विज्ञान के किसी न किसी विषय से संबंधित हैं और जिसका एक मात्र उदेश्य मनुष्य जीवन का कल्याण करना ही रहा है.मनुष्य का सुगमता एवं शीघ्रता से कल्याण कैसे हो ? इसका जितना गम्भीर विचार भारतीय संस्कृ्ति में किया गया है. उतना अन्यत्र कहीं नहीं मिलता.
वास्तु शास्त्र के अनुसार भवन/मकान इत्यादि निर्मित करने पर कुवास्तुजनित कष्ट तो अवश्य दूर हो जाते हैं,परन्तु प्रारब्धजनित कष्ट तो इन्सान को हर स्थिति में भोगने ही पडते हैं.वास्तु का जीवन में उपयोग मात्र एक कर्म है और इस कर्म की सफलता का आधार वास्तुशास्त्रीय ज्ञान है,जो,एक विज्ञान के साथ-साथ एक धार्मिक विषय भी है. इसलिए वास्तु ज्ञान के साथ-साथ,वास्तु के पूजन और वास्तु के धार्मिक पहलुओं का भी हमें ज्ञान होना चाहिए.
अनुभवहीन और नौसीखीये वास्तु विशेषज्ञों की अज्ञानता के कारण ही आम इंसान वास्तु विषय के प्रति भ्रमित रहता है। जिसके कारण वास्तु विषय की महत्वता कम होती है और जन साधारण का इस विषय के प्रति दृष्टिकोण नकारात्मक हो जाता है। ऐसे अज्ञानियों के चक्कर में पड़कर अपना अमूल्य समय और धन बर्बाद न करें। क्योंकि एक कुशल एवं अनुभवी वास्तु विशेषज्ञ की फीस की तुलना में उसकी सही सलाह से मिलने वाले फायदे बहुत ज्यादा होते हैं।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s

Blog at WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: