क्या ज्योतिष एवं वास्तु का सम्बन्ध हें -???-

क्या ज्योतिष एवं वास्तु का सम्बन्ध हें -???-
भवन निर्माण का कार्य भी एक धार्मिक कार्य के रूप में माना जाता है. भूमि पूजन से लेकर गृहे प्रवेश तक के हर कार्य को धार्मिक भावनाओं से जोड़ा गया है. महर्षि नारद जी ने स्वयं कहा है कि जो वास्तु का पूजन करता है, वह नितोग, पुत्र, धन-धान्य आदि से परिपूर्ण होता है. पृथ्वी, जल, आकाश, अग्नि इन पांच तत्वों संतुलित रखना प्राकृतिक नुयम है और वास्तु अनुकूल भवन बनाने का मुख्य उद्देश्य भी यही होता है.

वास्तु का ज्योतिष से गहरा रिश्ता है. ज्योतिष शास्त्र का मानना है कि मनुष्य के जीवन पर नवग्रहों का पूरा प्रभाव होता है. वास्तु शास्त्र में इन ग्रहों की स्थितियों का पूरा ध्यान रखा जाता है. वास्तु के सिद्धांतों के अनुसार भवन का निर्माण कराकर आप उत्तरी ध्रुव से चलने वाली चुम्बकीय ऊर्जा, सूर्य के प्रकाश में मोजूद अल्ट्रा वायलेट रेज और इन्फ्रारेड रेज, गुरुत्वाकर्षण – शक्ति तथा अनेक अदृश्य ब्रह्मांडीय तत्व जो मनुष्य को प्रभावित करते है के शुभ परिणाम प्राप्त कर सकते है. और अनिष्टकारी प्रभावों से अपनी रक्षा भी कर सकते है. वास्तु शास्त्र में दिशाओं का सबसे अधिक महत्व है. सम्पूर्ण वास्तु शास्त्र दिशाओं पर ही निर्भर होता है. क्योंकि वास्तु की दृष्टि में हर दिशा का अपना एक अलग ही महत्व है.

कोई भी विज्ञान अथवा कला जब तक आध्यात्म से किसी रूप में नहीं जुड़ती वह मानव कल्याण के योग्य नहीं होती | आध्यात्म से शून्य कोई भी विज्ञान कोरा व सूखा है जो शुष्क लकड़ी के समान केवल जलने योग्य है | विश्वकर्माप्रकाश नामक ग्रंथ के अनुसार भी (वास्तु होम ततः कुर्यात) अर्थात नौ ग्रहों के हवन के पश्चात ही वास्तु हवन करना चाहिए | आप सभी जानते हैं की सूर्य चन्द्र मंगल आदि ग्रह तथा वायु जल पृथ्वी अग्नि व आकाश आदि पंचतत्व मनुष्य को स्वस्थ दीर्घायु एवं जीवनशक्ति प्रदान करने के लिए परम आवश्यक हैं | सूर्य समस्त सृष्टि को ऊर्जा एवं प्रकाश प्रदान करता है | सूर्य के बिना तो मनुष्य जीवन की कल्पना भी नहीं की जा सकती | सूर्य के प्रचंड प्रकाश में रोगकारी तत्वों को नष्ट करने की विशेष क्षमता होती है | मनुष्य का शरीर भी पृथ्वी जल अग्नि वायु और आकाश नामक पाँच महाभूत तत्वों से बना है | शरीर में जब तक इन पंचतत्वों का संतुलन बना रहता है तब तक मनुष्य मानसिक एवं शारीरिक रूप से स्वस्थ रहता है और पंचतत्वों के संतुलन के बिगड़ते ही व्यक्ति के शरीर में विकार उत्पन्न होने लगते हैं और वह रुग्ण होने लगता है | वास्तु शास्त्र में सूर्य देव का स्थान बहुत ही प्रतिष्ठित होने के कारण ही वास्तु के दिव्य सिद्धांतों का निर्धारण सूर्य की स्तिथी एवं उसके प्रभाव को देखकर ही किया जाता है | पूर्व दिशा से उदय होते हुए पृथ्वी पर ताप देकर ऋतुओं का निर्धारण करके पृथ्वी वासियों का कल्याण भी सूर्य देव ही करते हैं | भवन निर्माण में सूर्य की किरणों के प्रभाव में कोई बाधा ना आए इसलिए सन्फेसिंग भवनों को अधिक मान्यता मिली है |

वैसे तो आप सभी जानते हैं कि वास्तु शास्त्र विश्व के प्राचीनतम शास्त्रों में से एक है | हजारों वर्ष पूर्व की हडप्पा व मोहनजोदडों की संस्कृतियों में वास्तु विज्ञान स्पष्ट झलकता है | वास्तु क्या है इसका उल्लेख हमारे प्राचीन ग्रंथों में मिलता है | मत्स्य पुराण के अनुसार एक समय अन्धकासुर नामक एक राक्षस ने भगवान शिव के अस्तित्व को नकार कर स्वयं को भगवान कहलवाना प्रारम्भ कर दिया | उसको उसके अन्जाम तक पहुँचाने में भगवान शिव को अत्यन्त परिश्रम करना पड़ा और उसके फलस्वरूप भगवान शिव के शरीर से एक पसीने की बूंद धरती पर गिरी और एक महाभूत उत्पन्न हुआ | उसके आकार को देखकर सभी देवता भयभीत हो गए और ब्रह्मा जी की शरण में गए | ब्रह्मा जी के कहे अनुसार देवताओं ने मिलकर उस महाभूत को पकड़ा और आकाश में लेजा कर धरती पर सिर के बल फेंक दिया | गिरते गिरते महाभूत ने अपने हाथ व पैर आपस में मिला लिए और पृथ्वी में समा गया | तभी महाभूत ने ब्रह्मा जी की अराधना की और पूछा कि मुझ निरपराध को यह दण्ड क्यों ? मेरा कसूर क्या था ? तब ब्रह्मा जी ने उस महाभूत को वरदान देते हुए कहा कि पृथ्वी वासियों को सुख प्रदान करने के उददेश्य से तुम्हारी उत्पत्ति हुई है | वास्तुदेव का नाम देते हुए उस महाभूत को ब्रह्मा जी ने कहा कि तुम पृथ्वी पर हर निर्माण के देवता हो | जो भी मनुष्य तुमसे विमुख होकर कोई निर्माण करेगा वह कभी भी सुखी नहीं रह पाएगा | विश्व कर्मा प्रकाश नामक प्राचीन ग्रंथ में भी इसका स्पष्ट वर्णन मिलता है कि तब सभी देवताओं और नौग्रहों ने अपनी अपनी शक्ति वास्तु देव को प्रदान की | नौग्रहों की शक्ति मिलने के कारण ही जब किसी व्यक्ति की ग्रह दशा ठीक नहीं होती तो वह वास्तु दोष वाले भवन में निवास करने लगता है और उसके निकृष्ट फल को भोगता है | तब वास्तु देव ने ब्रह्मा जी से कहा कि हे प्रभु यदि मेरी उत्पत्ति पृथ्वी वासियों को सुख प्रदान करने हेतू की गई है तो मैं मनुष्य को प्राकृतिक तत्वों पर आधारित पञ्च महाभौतिक तत्वों में संतुलन बनाने की प्रेरणा दूँगा | तभी से शुद्ध वास्तु के अनुरूप बने भवनों में रहने पर मनुष्य सुख सुविधाओं से संपन्न होता है इसमें कोई अतिशयोक्ति नहीं है |

जब भवन बनकर तैयार हो जाता है तो वह पंचभूत का रूप धारण कर लेता है। ईटो, मिट्टी, सीमेन्ट वगैरह से जब भवन बनकर तैयार हो जाता है तो लोग इसे निर्जीव समझते है लेकिन उनकी यह विचार धारा गलत है। दीवारे भी बाते करती है और सांस लेती है तभी तो कभी कोई गुप्त बात करनी हो तो लोग कहते है कि धीरे बात करें क्योंकि दीवारों के भी कान होते है। इन बातों से सिद्ध होता है कि हमारे पूर्वजों ने इस लकोक्ति को बनाते वक्त वास्तु शास्त्र का अध्ययन किया था। जो भी कर्म हम करते है उसका असर हमारे साथ-साथ, हमारे रहने वाले स्थान पर भी पड़ता है, क्योंकि पंचभूत हर इन्सान की देह(शरीर) मे विद्यमान है। मनुष्यों एवं बह्याण्ड की रचना पंच महाभूतों के आधार पर हुई है। यह पंचभूत है-पृथ्वी, आकाश, जल, अग्नि एवं वायु। हर स्त्री पुरूष के जीवन मे इनका बहुत महत्व है प्रकृति के विरूद्ध काम करने से इनका सन्तुलन बिगड़ जाता है और हमारी ऊर्जाएं गलत दिशांए अपना लेती है, जिससे अस्वस्थता पैदा होकर हमारे दिमागी व शारीरिक संतुलन को बिगाड़ देती है, और बैचेनी, तनाव अशान्ति इत्यादि को पैदा कर देती है। इसी तरह जब मनुष्य प्रकृति से छेड़छाड करता है तो उसका संन्तुलन बिगड़ जाता है तब तूफान, बाढ़, अग्निकांड तथा भूकम्प आदि अपना तांडव दिखाते हैं।
इसलिए यह जरूरी है कि पंच तत्वों का सन्तुलन बनाए रखा जाए ताकि हम शान्तिपूर्वक अपना जीवन व्यतीत कर सके। जैसे कि ऊपर कहा गया है कि भवन निर्माण के बाद यह पंच तत्व गृह मे रहने लगते है, तब यह जरूरी हो जाता है कि इन सबका सही सन्तुलन बना रहे। अगर यह जरा भी बिगड़ जाए तो भवन मे निवास करने वाला मानव सुख-शान्ति से नहीं रह पाएगा। उसे सदैव अशान्ति, कलेश, आर्थिक तंगी, रोग तथा मानसिक द्वंद आदि समस्याएं हमेशा घेरे रहेगी।

स्वास्थ्य, खुशहाली, सुख-चैन के साथ सफल जीवन जीने की प्राथमिकता के अलावा कुदरत में पर्यावरण के संतुलन बनाए रखने की भारतीय संस्कृति सदियों से चली आ रही है। इंसान ने जमीन पर मकान, मंदिर, मूर्तियाँ, किले, महल आदि का निर्माण किया, जिसने धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष की जिम्मेदारी का पूरा-पूरा ध्यान रखा। किन्तु इन सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण सूत्र है अंतरिक्ष में हमेशा बने रहने वाले ग्रह नक्षत्र और इस ज्ञान की गंगा को ज्योतिष के नाम से जाना गया।
ब्रह्याण्ड में संचार करती हुई ऊर्जा अर्थात्‌ ‘कास्मिक एनर्जी वास्तुशास्त्र में विशेष महत्व है। किसी भी भवन निर्माण आदि के लिए जमीन के सही चुनाव, निर्माण कार्य, इंटीरियर डेकोरेशन आदि कामों में दिशाओं, पाँच महाभूत तत्वों, पृथ्वी, जल, वायु, तेज या अग्नि तथा आकाश विद्युत चुम्बकीय तरंगों, गुरुत्वाकर्षण, कॉस्मिक एनर्जी तथा दिशाओं की डिग्रियों या अंशों का सुनियोजित ढंग से इस्तेमाल वास्तुकला द्वारा किया जाता है।
ज्योतिष का एक हिस्सा जो भवन निर्माण से संबंध रखता है, वास्तुशास्त्र के नाम से जाना जाता है। दूसरे शब्दों में ब्रह्माण्ड में हमेशा उपस्थित रहने वाली हुई कॉस्मिक ऊर्जा तथा पाँच महाभूत तत्वों का समायोजन वास्तुकला में जिस विद्या द्वारा होता है, वह वास्तुशास्त्र कहलाती है।
मान्यता अधिक होने के कारण हर मनुष्य पूर्व दिशा का भवन ही लेना चाहता है | दक्षिण दिशा के भवनों के बारे में भ्रामक प्रचार होने की वजह से उन्हें कोई नहीं लेना चाहता हालाँकि दक्षिण दिशा के भवन सर्वथा नुक्सानदायक नहीं होते क्योंकि इस पृथ्वी पर लगभग 25 प्रतिशत से ऊपर भवन दक्षिण व उत्तर दिशा की ओर मुख करके बने हुए हैं, क्या उनमे निवास करने वाले सभी दुखी हैं ? नहीं ऐसा नहीं है, दक्षिण दिशा तब नुक्सान करती है जब शनि व राहू की कराल स्तिथी हो अन्यथा दक्षिण दिशा के भवन शुभ फलदाई भी होते हैं | ऐसे बहुत से उदाहरण देखने को मिलते हैं जन्मकुंडली में मंगल की अशुभ स्तिथी व शनि से दृष्ट होना भी वास्तु दोष वाले भवन में निवास कराता है | जीवन में शुभ ग्रहों की दशा के समय मनुष्य अच्छे भवनों में निवास करता है |
अधिकतर वास्तुकला के शौकीन दिशाओं का अंदाज सूर्योदय और सूर्यास्त के आधार पर, मैगनेटिक कम्पास के बिना करते हैं, जबकि इस यंत्र के बिना वास्तु कार्य नहीं करना चाहिए। दिशाओं के सूक्ष्म अंशों को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता। अतः जरूरी रिनोवेशन या निर्माण कार्य, अच्छे जानकार वास्तुशास्त्री की देखरेख में ही करवाना ठीक होता है।
ज्योतिष का एक हिस्सा जो भवन निर्माण से संबंध रखता है, वास्तुशास्त्र के नाम से जाना जाता है। दूसरे शब्दों में ब्रह्माण्ड में हमेशा उपस्थित रहने वाली हुई कॉस्मिक ऊर्जा तथा पाँच महाभूत तत्वों का समायोजन वास्तुकला में जिस विद्या द्वारा होता है।
प्राचीनतम वास्तु विज्ञान को ज्योतिष एवं धर्म से अलग करके देखना सर्वथा उपयुक्त नहीं है क्योंकि भूमी पर भवन निर्माण से पहले भी हम गणपति पूजन, नौ ग्रह पूजन आदि करते हैं और भवन निर्माण के पश्चात ग्रह प्रवेश के समय भी नौ ग्रह एवं वास्तु सभी देवताओं के पूजन के पश्चात ही ग्रह प्रवेश करते हैं | वैदिककाल से ही मांगलिक चिन्ह के रूप में जलपूरित एवं आम्रपत्र तथा नारियल से ढका मंगलकलश शुभता, सम्पन्नता एवं समृद्धि का प्रतीक है | वृहद्संहिता नामक ग्रंथ के अनुसार भूमी का कारक ग्रह मंगल देव हैं | पूर्व दिशा के स्वामी सूर्य देव हैं | पश्चिमी दिशा के स्वामी शनि देव हैं, राहू दक्षिण दिशा का प्रतिनिधित्व करते हैं | कुण्डली का चौथा भाग भूमी से सम्बन्ध रखता है | उत्तम भवन तभी मिलता है जब चौथे भाव का स्वामी केन्द्र या त्रिकोण में होता है या स्थान बलि होता है | चौथे स्थान पर शुभ दृष्टि का होना व मंगल ग्रह का उत्तम स्तिथी में होना भी अच्छे भवन की प्राप्ति के लिए परमावश्यक माना गया है | आप सभी जानते हैं की लाल किताब ज्योतिष का एक प्रमाणिक ग्रंथ है | लाल किताब के अनुसार ग्रहों के शुभ अशुभ फलों का वास्तु से सीधा सम्बन्ध है | लाल किताब के अनुसार जब सूर्य अष्टम भाव में हो तो दक्षिण दिशा के भवन में निवास नहीं करना चाहिए | सूर्य देव की अशुभ स्तिथी अगर बारवें भाव में हो तो घर में खुला आँगन ज़रूर बनाएँ | ब्रहस्पति दूसरे भाव में अगर अशुभ हो तो मकान का कुछ हिस्सा कच्चा ज़रूर रखें अन्यथा गुरु के अशुभ फल का भागी बनना पड़ेगा | तीसरे भाव में गुरु अशुभ स्तिथी में हो तो घर के पास सुखा पीपल का पेड़ ज़रूर होगा | दूसरे व चौथे भाव में अगर बुद्ध अशुभ स्तिथी में हो तो घर में मनीप्लांट नहीं लगाना चाहिए | नौवे भाव में शुभ शनि की स्तिथी मकान में कलेजी पत्थर लगाने पर बहुत फ़ायदा करती है | ग्यारवे भाव में अशुभ शनि के प्रभाव से दक्षिण दिशा का भवन बहुत नुक्सान देता है | राहू चौथे भाव में अशुभ हों तो सीडियों के नीचे रसोई नहीं बनानी चाहिए | लाल किताब की इन प्रमाणिक बातों से यह स्पष्ट प्रतीत होता है कि ज्योतिष का सीधा सम्बन्ध वास्तु शास्त्र के साथ है | वास्तु शास्त्र को ज्योतिष व ग्रहों से अलग करके नहीं देखा जा सकता | जिस प्रकार अथर्ववेद का छठा अंग ज्योतिष को माना गया है उसी प्रकार वास्तु को भी ज्योतिष का अंग माना गया है इसलिए एक सफल वास्तु शास्त्री को ज्योतिष का ज्ञान होना परमावश्यक है |
आम धारणा है कि दक्षिण व पश्चिम दिशाएँ अच्छा असर नहीं डालती हैं या अशुभ प्रभाव रखती हैं। मगर सच्चाई कुछ और है। हर एक दिशा में खास अंश होते हैं, जो अच्छा प्रभाव डालते हैं। जैसे 135 से 180 अंश दक्षिण दिशा में, 270 से 310 अंश पश्चिम दिशा में अच्छा प्रभाव रखते हैं। अतः दिशाओं के प्रति पूर्वाग्रह न रखते हुए उनके शुभ अंशा से लाभ उठाने की संभावनाओं का ज्ञान जरूरी है।
दक्षिण पश्चिम दिशा में उत्तर-पूर्व के मुकाबले में खुली जगह कम से कम होनी चाहिए। मुख्य दरवाजा किसी भी दिशा में हो उत्तर-पूर्व वाला भाग दक्षिण-पश्चिम के मुकाबले में खुला, हल्का और साफ-सुथरा होना चाहिए।
दूसरे शब्दों में दक्षिण-पश्चिम वाला हिस्सा ऊँचा, भारी, ज्यादा घिरा हुआ होना चाहिए। साथ ही फर्श की सतह का ढलान इस तरह से नीचा होना चाहिए कि पानी का बहाव दक्षिण से उत्तर या पश्चिम से पूर्व की ओर होना चाहिए। बाउंड्री वॉल भी बिलकुल इसी तरह उत्तर और पूर्व में नीची एवं तुलनात्मक रूप से कम मोटी होनी चाहिए।
उत्तर दिशा पानी संबंधी बातों से ताल्लुक रखती है, इसीलिए उत्तर-पूर्व में जल संबंधी बातों का प्रावधान रखा गया है, कारण सूर्य की चमत्कारी किरणों का भरपूर इस्तेमाल। एक वैदिक ऋचा में कहा गया है… हे सूर्य देवता…। अपनी किरणों द्वारा हमारे हृदय और फेफड़ों के अंदर के कीटाणुओं का नाश करिए। उत्तर-पूर्व दिशा के बड़े खिड़की दरवाजों को और खुली जगह को इसीलिए इतना महत्व दिया गया है कि कॉस्मिक-एनर्जी के साथ अल्ट्रा-वॉयलेट किरणों की संतुलित मात्रा में आवाजाही हो सके। पूर्व दिशा को खास तौर पर एकदम सुबह के उगते हुए सूर्य की अल्ट्रावॉइलेट किरणों के असर की वजह से महत्वपूर्ण बतलाया गया है। हिंदुस्तानी रहन सहन के तौर-तरीकों में इसीलिए ब्रह्ममुहूर्त को इतना महत्व दिया जाता है।
जमीन के नीचे पानी के टैंक, स्विमिंग पूल, कुआँ, बावड़ी, बोरवैल की व्यवस्था का उपरोक्त दिशा में प्रावधान का मुख्य उद्देश्य हाइजीन है। सोने के कमरे का दरवाजा ऐसी जगह पर न बनवाएँ कि बाहर से आते-जाते लोगों की नजर उस कमरे में सोने या आराम करने वालों पर पड़े। ड्राइंग-रूम में सोफज कम बैड का प्रयोग यथासंभव कम से कम करें।
रसोई की सबसे बेहतरीन जगह दक्षिण-पूर्व है, दूसरा विकल्प उत्तर-पश्चिम दिशा में है। अगर दाम्पत्य जीवन के तालमेल में कमी के संकेत मिलते हों तो रसोई तथा शयन कक्ष की वास्तु योजना पर खास तौर पर ध्यान देना चाहिए। रसोई की दीवारों का पेंट आदि का भी ध्यान रखना आवश्यक होता है। रसोई घर में पूजाघर या देवताओं की मूर्ति जैसी चीजें न रखें।
खिड़की, दरवाजे और मुख्य रूप से मेन-गेट पर काला पेंट हो तो परिवार के सदस्यों के व्यवहार में अशिष्टता, गुस्सा, बदजुबानी आदि बढ़ जाते हैं। घर के जिस भी सदस्य की जन्मपत्रिका में वाणी स्थान व संबंधित ग्रह-नक्षत्र शनि, राहु मंगल और केतु आदि से प्रभावित हों, उस पर उक्त प्रभाव विशेष रूप से दृष्टिगोचर होता हो। मंगल व केतु का प्रभाव हो तो लाल पेंट कुतर्क, अधिक बहस, झगड़ालू और व्यंगात्मक भाषा इस्तेमाल करने की प्रवृत्ति की तरफ इशारा करता है। ऐसे हालात में सफेद रंग का प्रयोग लाभदायक होता है।
रसोई की सबसे बेहतरीन जगह दक्षिण-पूर्व है, दूसरा विकल्प उत्तर-पश्चिम दिशा में है। अगर दाम्पत्य जीवन के तालमेल में कमी के संकेत मिलते हों तो रसोई तथा शयन कक्ष की वास्तु योजना पर खास तौर पर ध्यान देना चाहिए।
अग्नि तत्व या रसोई से संबंध रखने वाली वस्तुओं की सबसे अच्छी व्यवस्था दक्षिण-पूर्व में ही होती है। टेलीविजन, कम्प्यूटर, हीट-कन्वेटर या अन्य ऐसे उपकरण जो एक भवन में सभी या अधिक स्थानों पर हो सकते हैं या ऐसे दूसरे विद्युत उपकरण, जब विभिन्न कमरों में रखने हों तो दिशा ज्ञान प्रत्येक कमरे पर प्रयोग करना चाहिए। उदाहरण के लिए उत्तर-पूर्व में स्थित किसी कमरे में विद्यार्थी के कम्प्यूटर का उचित स्थान उस कमरे के दक्षिण-पूर्व में होगा। इसी तरह रसोई का सबसे बेहतर स्थान दक्षिण-पूर्व में, दूसरा विकल्प उत्तर-पश्चिम दिशा में है, किन्तु रसोई के खर्चों तथा मानसिक चिंताओं में बेवजह वृद्धि हो जाती है। यदि जन्मकालीन ग्रह-नक्षत्र मंगल दोष दाम्पत्य जीवन के असामंजस्य के संकेत देता हो और ऐसे अनुभव भी हो रहे हों तो अन्य कारणों के साथ किचन तथा बैडरूम के वास्तु पर खास तौर पर ध्यान देना चाहिए।
रसोई में कुकिंग रेंज पूर्व में ऐसे रखें कि खाना बनाने वाले के सामने पूर्व दिशा पड़े। फूज्ड प्रोसेसर, माइक्रोवन, फ्रिज इत्यादि की व्यवस्था दक्षिण-पूर्व में होनी चाहिए। पानी संबंधी कार्य जैसे वाटर फिल्टर, डिशवाशर, बर्तन धोने का सिंक आदि उत्तर-पूर्व वाले भाग में होने चाहिए। पूर्व की दीवार में वॉल कैबिनेट न हों तो बेहतर है यदि जरूरी हो तो यहाँ भारी सामान न रखें। खाने-पीने का सामान उत्तर-पश्चिम दिशा में या रसोईघर के उत्तर-पश्चिम भाग में स्टोर करें जिस दरवाजे से अधिक आना जाना हो या मुख्य द्वार यदि रसोईघर के ठीक सामने हो साथ ही पति पत्नी के ग्रह-नक्षत्र कलह का इशारा देते हैं तो बेहतर होगा कि दरवाजों की जगह बदलवाएँ वरना उक्त परिस्थितियाँ आग में घी का काम करती हैं।
वास्तुशास्त्र में वेध काफी महत्व रखता है। यह बाधा या रूकावट के संकेत देता है। भवन अथवा मुख्य द्वार के सामने अगर पेड़, खंभा, बड़ा पत्थर आदि या जनता द्वारा प्रयोग होने वाले मार्ग का अंत होता है तो उसका विपरीत असर पड़ता है। जब वेध व भवन के बीचों-बीच ऐसी सड़क हो जिसमें आम रास्ता हो तो वेध का प्रभाव पूरी तरह तो नहीं मगर बहुत कुछ कम हो जाता है। घर पर भी किसी कमरे के दरवाजे के सामने कोई वस्तु मसलन जसे सोने के कमरे के सामने ऐसी सजावटी वस्तुएँ तनाव और चिंताओं के कारण या नींद में बाधक हो सकती है।
भवन के बीचों-बीच का हिस्सा ब्रह्म स्थान कहा जाता है। इसे खाली रखा जाना चाहिए। जैसे फर्नीचर या कोई भारी सामान यहाँ पर सेहत व मानसिक शांति को प्रभावित करते हैं। ब्रह्मस्थान वाले क्षेत्र में छत में भारी झाड़ फानूस भी नहीं लटकाएँ जाएँ। इस हिस्से में पानी की निकासी के लिए नालियों की व्यवस्था का निषेध है, यह आर्थिक नुकसान का संकेतक है।
घर, कार्यालय या संस्था के मुखिया आदि के बैठने, काम करने या सोने की जगह दक्षिण-पश्चिम में बहुत अच्छी मानी गई है। ऐसी स्थिति में उनका अपन से छोटे सदस्यों, बच्चों तथा कर्मचारियों, प्रबंधकों आदि पर बेहतर नियंत्रण रहता है। घर पर मेहमान या आफिस में मुलाकात करने वालों के बैठने का इंतजाम कुछ इस तरह होना चाहिए कि उनका मुँह दक्षिण या पश्चिम की ओर होना चाहिए तथा गृहस्वामी या वरिष्ठ अधिकारी उत्तर या पूर्व की ओर मुँह करते हुए बैठें। बच्चे यदि माता-पिता के अनुशासन में न हों और उनके लिए चिंता का कारक हों तो उत्तर-पूर्व दिशा में बच्चों के सोने व पढ़ने की व्यवस्था करें। टेलीफोन, फैक्स का उचित स्थान उत्तर-पूर्व दिशा में है।
एक अच्छे वास्तुशास्त्री को वास्तुशास्त्र के साथ ज्योतिष का ज्ञान होना आवश्यक है। आजकल ज्योतिष और वास्तुशास्त्र एक आकर्षक व्यवसाय के रूप में उभर कर आ रहे हैं। अधकचरे वास्तुशास्त्री अजीबो-गरीब उपाय बतलाते हैं। अतः वास्तुशास्त्री का चुनाव सावधानी से करिए। लोगों की परेशानियों से आनन-फानन छुटकारा दिलवाने का बढ़-चढ़कर दावा करने वालों से हमेशा सावधान रहें।
वास्तुशास्त्र का प्रयोग ज्योतिष को ध्यान में रखते हुए करना अधिक लाभदायक होता है। यह ध्यान रखें कि जीवन सुख-दुःख का मिश्रण है, अतः अंधविश्वास, धर्म, आदि से हटकर इन विधाओं का वैज्ञानिक पक्ष पहचानना सीखें।

आइये देखे क्या होता हें दिशाओ का प्रभाव/असर—-
पूर्व-दिशा:—
– पूर्व की दिशा सूर्य प्रधान होती है.सूर्य का महत्व सभी देशो में है. पूर्व सूर्य के उगने की दिशा है. सूर्य पूर्व दिशा के स्वामी है. यही वजह है कि पूर्व दिशा ज्ञान, प्रकाश, आध्यात्म की प्राप्ति में व्यक्ति की मदद करती है. पूर्व दिशा पिता का स्थान भी होता है. पूर्व दिशा बंद, दबी, ढकी होने पर गृहस्वामी कष्टों से घिर जाता है. वास्तु शास्त्र में इन्ही बातो को दृष्टि में रख कर पूर्व दिशा को खुला छोड़ने की सलाह दी गयी है.

दक्षिण-दिशा:—-
दक्षिण-दिशा यम की दिशा मानी गयी है. यम बुराइयों का नाश करने वाला देव है और पापों से छुटकारा दिलाता है. पितर इसी दिशा में वास करते है. यह दिशा सुख समृद्धि और अन्न का स्रोत है. यह दिशा दूषित होने पर गृहस्वामी का विकास रुक जाता है. दक्षिण दिशा का ग्रह मंगल है.और मंगल एक बहुत ही महत्वपूर्ण ग्रह है.

उत्तर-दिशा:- —
यह दिशा मातृ स्थान और कुबेर की दिशा है. इस दिशा का स्वामी बुध ग्रह है. उत्तर में खाली स्थान ना होने पर माता को कष्ट आने की संभावना बढ़ जाती है.

दक्षिण-पूर्व की दिशा:—-
इस दिशा के अधिपति अग्नि देवता है. अग्निदेव व्यक्ति के व्यक्तित्व को तेजस्वी, सुंदर और आकर्षक बनाते है. जीवन में सभी सुख प्रदान करते है.जीवन में खुशी और स्वास्थ्य के लिए इस दिशा में ही आग, भोजन पकाने तथा भोजन से सम्बंधित कार्य करना चाहिए. इस दिशा के अधिष्ठाता शुक्र ग्रह है.

उत्तर-पूर्व दिशा:- —
यह सोम और शिव का स्थान होता है. यह दिशा धन, स्वास्थ्य औए एश्वर्य देने वाली है. यह दिशा वंश में वृद्धि कर उसे स्थायित्व प्रदान करती है. यह दिशा पुरुष व पुत्र संतान को भी उत्तम स्वास्थ्य प्रदान करती है. और धन प्राप्ति का स्रोत है. इसकी पवित्रता का हमेशा ध्यान रखना चाहिए.

दक्षिण-पश्चिम दिशा:—-
यह दिशा मृत्यु की है. यहां पिशाच का वास होता है. इस दिशा का ग्रह राहू है. इस दिशा में दोष होने पर परिवार में असमय मौत की आशंका बनी रहती है.

उत्तर-पश्चिम दिशा:—-
यह वायुदेव की दिशा है. वायुदेव शक्ति, प्राण, स्वास्थ्य प्रदान करते है. यह दिशा मित्रता और शत्रुता का आधार है. इस दिशा का स्वामी ग्रह चंद्रमा है.

पश्चिम-दिशा:- —
यह वरुण का स्थान है. सफलता, यश और भव्यता का आधार यह दिशा है. इस दिशा के ग्रह शनि है. लक्ष्मी से सम्बंधित पूजा पश्चिम की तरफ मुंह करके भी की जाती है.

इस प्रकार सभी दिशाओं के स्वामी अलग अलग ग्रह होते है और उनका जीवन में अलग अलग प्रभाव उनकी स्थिति के अनुसार मनुष्य के जीवन में पडता रहता है.

अब जानते हें की क्या प्रभाव/असर होता हें पाँच तत्वों का–????–

इन पंच तत्वों को जानने के लिए हमें इनके बारे मे अलग-अलग समझना होगा कि यह क्या है और इनका मनुष्य व ब्रह्याण्ड पर किस प्रकार असर पड़ता है। पंच तत्वों का संक्षेप से वर्णन इस प्रकार है।
1. पृथ्वी—-
पृथ्वी सौरमण्डल के नवग्रहों मे से एक है। सूर्य के अंश से टूटकर यह लाखों वर्ष पूर्व उसका प्रादुर्भाव हुआ था। कहते है कि अन्य ग्रह भी इसी प्रकार उत्पन्न हुए थे। सूर्य से टूटने के बाद यह उसके इर्द-र्गिद चक्कर काटने लगे और धीरे-धीरे यह सूर्य से दूर हो गए। इसी प्रकार पृथ्वी भी सूर्य से दूर हो गई और धीरे-धीरे ठंडी हो गई। पृथ्वी पर लम्बे समय तक रसायनिक क्रियाओ के फलस्वरूप प्राकृतिक स्थलों, पर्वतों, नदियों व मैदानों आदि का जन्म हुआ। पृथ्वी सूर्य के गिर्द चक्कर काटने के साथ-साथ अपनी धुरी पर भी 23 डिग्री मे घूम रही हैं। यहां पानी, गुरूत्वाकर्षण शक्ति तथा दक्षिणोत्तर धु्रवीय तरंगे पृथ्वी की सभी जीव-निर्जीव वस्तुओं को प्रभावित करती है। पृथ्वी ही जीवनदायिनी है और पालनहार है। पृथ्वी की इसी ममतामयी छवि के कारण भवन निर्माण का कार्य इस पर होता है, क्योंकि भूमि के बिना भवन निर्माण नही हो सकता। कहने का तात्पर्य कि भवन निर्माण कार्य मे भूमि के महत्व को अनदेखा नही किया जा सकता तभी तो भारतीय प्राचीन ग्रन्थों मे पृथ्वी की महत्ता को ‘माता’ जैसे शब्दो से सम्बोधित किया गया है और भूमि पर किसी भी कार्य को प्रारम्भ करने से पूर्व पूजा का विधान रखा गया है।
2. जल—-
जल ही जीवन है इसमे मे कितनी सच्चाई है इसका अन्दाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि किसी सजीव या निर्जीव वस्तु का अस्तित्व ‘जल’ के बिना नही रह सकता और वह जल्द समाप्त हो जाती है। जीवन का कारण ही जलचक्र है। सागर, नदियों, नहरों, तालाबो इत्यादि का जल वाष्प बनकर आकाश मे चला जाता है और बादल के रूप मे आकर वर्षा बनकर जल के रूप में फिर से धरती पर आ जाता है। इसी से जीवन कायम है। यह तो विज्ञान भी मानता है कि जल मे एक अंश प्राणवायु (ऑक्सीजन) का भी होता है जोकि इन्सान के खून मे मिलकर नसो मे दौड़ता है और उसे जीवन देता है। जल तीन रूपों मे मिलता है जैसे ठोस (वर्षा) तरल व गैस (भाप एवं बादल)। आम तौर पर जल व अग्नि की जरूरत पड़ती है। यह पांचो महाभूत अलग अलग हो तो यह किसी काम के नही और अगर इन्हे एक रूप कर दिया जाए तो जीवन की एक अनुपम रचना बन सकती है।
इतिहाकारों का मानना है कि विश्व की महान सभ्यताएं जल के किनारे ही पली-बढ़ी व जल का ही ग्रास बन गई। अतः पृथ्वी के संचालन के लिए जल अत्यंत महत्वपूर्ण है। वास्तुशास्त्र के मुताबिक जल को मुख्य तत्व में रखा जाना चाहिए और निर्माण सामग्री मे इसके सन्तुलन को ध्यान मे रखना जरूरी है।
3. अग्नि—-
अग्नि व तेल यह ऊर्जा के स्त्रोत हे और बिना ऊर्जा के जीवन का कोई आधार नही है। ऊर्जा का प्रमुख स्त्रोत सूर्य है जिसके तेज से ही जीवन प्रकाशमान है। तेज को किसी भी मनुष्य के असाधारण गुण के रूप मे देखा जाता है। पर्यावरण मे व्याप्त वायुकण, धूल और बादल अपनी चुम्बकीय शक्ति के कारण एक दूसरे की ओर आकर्षित होते रहते है। इसी कारण इनके सिमटने और फैलने की क्रिया होती है जिसके बल से ऊर्जा पैदा होती है और यही ऊर्जा अग्नि है। अग्नि का मनुष्य की रोजमर्रा की जिन्दगी मे बहुत महत्व है जैसे भोजन इत्यादि पचाना व प्रकाश करना। हिन्दु संस्कृति के अनुसार धार्मिक कार्यक्रम मे भी अग्नि का बहुत महत्व है। जैसे यज्ञ, हवन, विवाह, संस्कार व अन्य कर्मकांड अग्नि के बिना अधूरे गिने जाते है। अग्नि को प्रचण्ड रूप मे भी देखा जा सकता है। जब यह देखते ही देखते बड़े-बड़े महलों व ऊंचे-ऊंचे भवनों को धूल मे मिला देती है। भारतीय शास्त्रो मे कहा गया है कि अग्नि मनुष्य के साथ जन्म से लेकर मरण तक रहती है और यह चिरन्तन सत्य है। अग्नि सत्य एवं अविनाशी है और मनुष्य जीवन के हरएक पहलू से जुड़ी है। इसे वास्तु मे भी बहुत महत्व दिया गया है।
4. वायु—-
चलते फिरते मनुष्य के जीवन मे वायु का बहुत महत्व है, जो कि श्वसन क्रिया से सम्बन्धित है। जब यह सम्बन्ध विच्छेद हो जाता है तो मनुष्य का जीवन समाप्त हो जाता है। प्राणी ही नही पेड़ पौधे भी वायु के बिना क्षीण होकर समाप्त हो जाते है। मतलब यह कि वायु का संतुलन सृष्टि की रचना व स्थायित्व मे योगदान बहुत महत्वपूर्ण है। पृथ्वी पर वायु मण्डल का दायरा लगभग 400 कि.मी. है, जिसमें विभिन्न प्रकार की गैसों का मिश्रण है। मनुष्य जीवन के लिए दो गैसों आक्सीजन और हाईड्रोजन का बहुत महत्व है क्योंकि यही दोनो गैसें जल का कारक है और उससे मनुष्य का शरीर संचालित है। अगर इसमे कमी आ जाए तो मनुष्य को चमड़ी व खून के दबाव इत्यादि रोगों का सामना करना पड़ सकता है। मनुष्य की प्रत्येक क्रिया मे कहीं न कहीं पंच महाभूतों का सम्मिश्रण अवश्य पाया जाता है। यह मिश्रण किसी और ग्रह पर नही है तभी तो वहां जीवन संभव नही हो पाया है। वस्तुतः वायु मानव के लिए अन्य शक्तियों का अमूल्य उपहार है। वास्तु द्वारा वायु को इतनी पहल इसलिए दी गई है कि यह निर्माण कार्य को बहुत हद तक प्रभावित करती है।
5. आकाश—–
आकाश अनन्त असीम व अथाह है। यह ऊर्जा की तीव्रता, प्रकाश लौकिक किरणों, विद्युतीय व चुम्बकीय शक्तियों का प्रतीक है। यह अपने अन्दर एक आकाश गंगा नहीं बल्कि असीम आकाश गंगाए समाएं हुए हैं, जिनमें हमारे सूर्य जैसे सैकड़ों सूर्य चमक रहे है। सभी ग्रह-उपग्रह अपनी स्थिति एवं समयानुसार इसमे परिक्रमा कर रहे है। हमारे जीवन मे समृद्धि व आनन्द लाने मे आकाश का महत्वपूर्ण स्थान है।
यदि इन्सान अपनी जिन्दगी मे सुख, समृद्धि व आनन्द पाना चाहता है तो उसे पंच महाभूतों को यथोचित सम्मान देना चाहिए ताकि वह अपने जीवन मे अरोग्यता, शान्ति, समृद्धि व उन्नति प्राप्त कर सके।

पंच भूतों का गृह में स्थानः- जैसा कि आपको पहले बताया है कि सारा ब्रह्माण्ड पंच तत्वों से बना हुआ है और वैसे ही इन पंच तत्वों का भवन में कहां पर निवास है यह नीचे बताया गया है।

1.जलः- जल का स्थान उत्तर पूर्व दिशा मे बताया गया है। जल का भूमिगत भण्डारण, कुआं इत्यादि पूर्व उत्तर दिशा में होना चाहिए ताकि सूर्य की सुबह की किरणे इस पर पड़े और द्घातक कीटाणु नष्ट हो जाएं। इस तरफ जल का भण्डार होने से गृह स्वामी को खुशी व समृद्धि प्राप्त होती है।
2.अग्निः- अग्नि का स्थान दक्षिण पूर्व मे है। इसलिए रसोई का स्थान इस दिशा में होना चाहिए। अग्नि को जलाते समय मनुष्य का मुख पूर्व दिशा में होना चाहिए। इससे द्घर में खुशी व समद्धि रहती है और मनुष्य का मन शान्त रहता है।
3.भूमिः- भवन के दक्षिण पश्चिम भाग को सख्त माना गया है इसलिए इस दिशा को भूमि की संज्ञा दी गई है। कहते हैं कि यह दिशा जितनी ऊंची होगी गृह स्वामी का उतना ही अधिक मान सम्मान होगा और वह समाज मे बहुत ऊंचा दर्जा प्राप्त करता है।
4.वायुः-वायु का स्थान उत्तर-पश्चिम में माना गया है। इसलिए भवन के दरवाजे, खिडकियां इत्यादि इसी दिशा में बनवाने की सलाह दी जाती है। ताकि द्घर में पर्याप्त वायु प्रवेश करें और द्घर में रहने वालों को पूर्ण रूप से वायु मिले। अगर इस दिशा में वायु का प्रवाह बिना रूकावट मिले तो ऐसे भवन के स्वामी को हमेशा खुशी मिलेगी और व्यापार मे तरक्की एवं अच्छे मित्र मिलेंगें जो सुख दुख के साथी होगें।
5.आकाशः- आकाश का सम्बन्ध भवन के बीच के स्थान को दिया जाता है। भवन निर्माण करते समय बीच वाले स्थान को खाली छोड़ देना चाहिए। इसे बहा स्थान भी कहा जाता है। यह स्थान आकाश से सीधा दिखाई देना चाहिए। इसके बीच मे बीम इत्यादि या रूकावट नहीं होनी चाहिए। छोटे भवनों वाले इस तरह का स्थान नही बना सकते परन्तु उन्हें कोशिश करनी चाहिए कि भवन के बीच का स्थान खाली रहे चाहे तो समतल ही रहनें दे। कोई भी भारी सामान बना रहता है और धर्म कर्म के अभिरूचि बनी रहती है।

ज्योतिष एवं वास्तु में दिशाओ का महत्त्व—

वास्तु के अनुसार दिशाओं का भी भवन निर्माण मे उतना ही महत्व है जितना कि पंच तत्वों का है। दिशांए कौन-कौन सी है और उनके स्वामी कौन-कौन से है यह नीचे दिए जा रहे हैं। कहते हैं कि दिशा व्यक्ति की दशा बदल देती है। यह बात वास्तुनुरूप बने भवन पर पूर्ण रूप से सत्य साबित होती है। यदि किसी भवन निर्माण का दिशाओं के बिना ध्यान रखे निर्माण किया जाए तो ऐसे भवन के स्वामी को अनेक कष्ट, दुखो का सामना करना पड़ता है। हमें वस्तुतः चार दिशााओं का ज्ञान है जिस ओर से सूर्य उदय होता है उस ओर पूर्व व जिस दिशा मे सूर्य अस्त होता है उसे पश्चिम कहा जाता है। अगर पूर्व की ओर मुंह करके खड़े हो जाए तो बायीं ओर उत्तर व दाहिनी ओर दक्षिण दिशा होती है।

वास्तु विज्ञान/शास्त्रों के अनुसार चार दिशाओं के अतिरिक्त चार उपदिशाएं या विदिशाए भी होती है और यह चार है 1.ईशान 2.आग्नेय 3.नैऋत्य 4.वायव्य। इन विदिशाओं का भी वस्तु शास्त्र मे बहुत महत्व है समरागण सूत्र में दिशाओं/विदिशाओं का उल्लेख इस प्रकार किया गया है।
1.पूर्वः- यह तो सभी जानते है कि सूर्य पूर्व दिशा में निकलता है और सुबह की किरणों मे जीवनदायी पोषक तत्व होते है, जिनकी शरीर व वनस्पति को बहुत आवश्यकता होती है। इस दिशा का स्वामी ‘इन्द्र’ हैं और इसे सूर्य का निवास स्थान भी माना जाता है। अतः एवं यह स्थान मुख्यतः प्रमुख व्यक्ति या पितृ स्थान माना जाता है अतः एवं इस दिशा को खुला व स्वच्छ रखा जाना चाहिए। इस दिशा मे कोई रूकावट नहीं होनी चाहिए। यह दिशा वंश वृद्धि मे भी सहायक होती है। यह दिशा अगर दूषित होगी तो व्यक्ति के मान सम्मान को हानि मिलती है व पितृ दोष लगता है।
पूर्व दिशा का स्वामी ‘इन्द्र है। यह कालपुरूष है। प्रयास करें कि इस दिशा मे टायलेट न हो वरना धन व संतान की हानि का भय रहता है। पूर्व दिशा में बनी चारदीवारी पश्चिम दिशा की चार दीवारी से ऊंची न हो, वरना संतान हानि का भय है इस दिशा का प्रतिनिधी ग्रह सूर्य है।
2.पश्चिमः- जब सूर्य अस्तांचल की ओर होता है तो वह दिशा पश्चिम कहलाती है। इस दिशा का स्वामी ‘वरूण’ है और यह दिशा वायु तत्व को प्रभावित करती है और वायु चंचल होती है। अतः यह दिशा चंचलता प्रदान करती है। यदि भवन का दरवाजा पश्चिम मुखी है तो वहां रहने वाले प्राणियों का मन चंचल होगा। पश्चिम दिशा सफलता यश, भव्यता और कीर्ति प्रदान करती है।
पश्चिम दिशा का स्वामी ‘वरूण’ है और इसका प्रतिनिधि ग्रह ‘शनि’ है। यदि ऐसे गृह का मुख्य द्वार पश्चिम दिशा वाला हो तो गलत है। इस कारण ग्रह स्वामी की आमदनी ठीक नहीं होगी उसे गुप्तांग की बीमारी होगी।
3.उत्तरः- सूर्य के निकलते समय अगर उस ओर मुंह करके खड़े हो जाए तो हमारी बायीं तरफ की दिशा उत्तर दिशा कहलाती है या इसे ऐसे भी ज्ञात किया जा सकता है कि जिस ओर ध्रुव तारा है, वह दिशा उत्तर दिशा भी कहलाती है। इस दिशा का स्वामी ‘कुबेर’ है और यह दिशा जल तत्व को प्रभावित करती है। भवन निर्माण करते समय इस दिशा को खुला छोड़ देना चाहिए। अगर इस दिशा में निर्माण करना जरूरी हो तो इस दिशा का निर्माण अन्य दिशाओं की अपेक्षा थोड़ा नीचा होना चाहिए। यह दिशा सुख सम्पति, धन धान्य एवं जीवन मे सभी सुखों को प्रदान करती है। उत्तर मुखी भवन इसकी दिशा का ग्रह ‘बुध’ है।
उत्तरी हिस्से में खाली जगह ने हो अहाते की सीमा के साथ सटकर और मकान हो और दक्षिण दिशा मे जगह खाली हो तो वह भवन दूसरो की सम्पति बन सकता है।
4.दक्षिणः- चढ़ते सूर्य की ओर मुंह करके खड़े होने से अगर बायीं ओर उत्तर हो तो निश्चित दायीं ओर दक्षिण दिशा होनी चाहिए। आम तौर पर दक्षिण दिशा को अच्छा नहीं मानते क्योंकि दक्षिण दिशा का यम का स्थान माना जाता है और यम मृत्यु के देवता है अतः आम लोग इसे मृत्यु तुल्य दिशा मानते है। परन्तु यह दिशा बहुत ही सौभाग्यशाली है। यह धैर्य व स्थिरता की प्रतीक है। यह दिशा हर प्रकार की बुराइयों को नष्ट करती है। दक्षिण भारत में तिरूपति मन्दिर बहुत प्रसिद्ध है दक्षिण दिशा मे स्थित होते हुए भी यह मन्दिर बहुत समृद्धशाली एवं प्रसिद्ध है। इस मन्दिर की आय से दक्षिण भारत में कई शिक्षा संस्थान एवं अनाथालय चलते है जिस कारण यह बहुत प्रसिद्ध है। अतः दक्षिण दिशा उतनी बुरी भी नही है जितनी कि लोगो की धारणा है। भवन निर्माण करते समय पहले दक्षिण भाग को कवर करना चाहिए और इस दिशा को सर्वप्रथम पूरा बन्द रखना चाहिए। यहां पर भारी समान व भवन निर्माण साम्रगी को रखना चाहिए। यह दिशा अगर दूषित या खुली होगी तो शत्रु भय का रोग प्रदान करने वाले होगी। इस दिशा का स्वामी यम है और ग्रह मंगल है।
5.ईशानः- पूर्व दिशा व उत्तर दिशा के मध्य भाग को ईशान दिशा कहा जाता है ईशान दिशा को देवताओं का स्थान भी कहा जाता है। इसीलिए हिन्दू मान्यता के अनुसार कोई शुभ कार्य किया जाता है तो द्घट स्थापना ईशान दिशा की ओर की जाती है। सूर्योदय की पहली किरणे भवन के जिस भाग पर पड़े उसे ईशान दिशा कहा जाता है। यह दिशा विवेक, धैर्य, ज्ञान, बुद्धि आदि प्रदान करती है भवन मे इस दिशा को पूरी तरह शुद्ध व पवित्र रखा जाना चाहिए। यदि यह दिशा दूषित होगी तो भवन मे प्रायः कलह व विभिन्न कष्टों को प्रदान करने के साथ व्यक्ति की बुद्धि भ्रष्ट होती है और प्रायः कन्या संतान प्राप्त होती है। अतः भवन में इस दिशा का विशेष ध्यान रखना चाहिए। इस दिशा का स्वामी ‘रूद्र’ यानि भगवान शिव है और प्रतिनिधि ग्रह ‘बृहस्पति’ है।
6.आग्नेयः- पूर्व दिशा व दक्षिण दिशा को मिलाने वाले कोण को अग्नेय कोण संज्ञा दी जाती है। जैसा कि नाम से ही प्रतीत होता है। इस कोण को अग्नि तत्व का प्रभुत्व माना गया है और इसका सीधा सम्बन्ध स्वास्थय के साथ है। यदि भवन की यह दिशा दूषित रहेंगी तो द्घर का कोई न कोई सदस्य बीमार रहेगा। इस दिशा के दोषपूर्ण रहने से व्यक्ति को क्रोधित स्वभाव वाला व चिडचिड़ा बना देगा। यदि भवन का यह कोण बढ़ा हुआ है तो यह संतान को कष्टप्रद होकर राजमय आदि देता है। इस दिशा का स्वामी ‘गणेश’ है और प्रतिनिधि ग्रह ‘शुक्र’ है। यदि आग्नेय ब्लॉक की पूर्वी दिशा मे सड़क सीधे उत्तर की ओर न बढ़कर घर के पास ही समाप्त हो जाए तो वह घर पराधीन हो जाएगा।
7.नैऋत्यः- दक्षिण व पश्चिम के मध्य कोण को नेऋत्य कोण कहते है। यह कोण व्यक्ति के चरित्र का परिचय देता है। यदि भवन का यह कोण दूषित होगा तो उस भवन के सदस्यों का चरित्र प्रायः कुलषित होगा और शत्रु भय बना रहेगा। विद्वानों के अनुसार इस कोण के दूषित होने से अकस्मिक दुर्द्घटना होने के साथ ही अल्प आयु होने का भी योग होता है। यदि द्घर में इस कोण में खाली जगह है गड्डा है, भूत है या कांटेदार वृक्ष है तो गृह स्वामी बीमार, शत्रुओं से पीडित एंव सम्पन्नता से दूर रहेगा। नेऋत्य का हर कोण पूरे घर मे हर जगह संतुलित होना चाहिए, अन्यथा दुष्परिणाम भुगतना पड़ेगा। इस दिशा का स्वामी ‘राक्षस’ है और प्रतिनिधि ग्रह ‘राहु’ है।
8.वायव्यः- पश्चिम दिशा व उत्तर दिशा को मिलाने वाली विदिशा को वायव्य विदिशा या कोण कहते है जैसा कि नाम से ही विदित होता है कि यह कोण वायु का प्रतिनिधित्व करता है। यह वायु का ही स्थान माना जाता है। यह मानव को शांति, स्वस्थ दीर्घायु आदि प्रदान करता है। वस्तुतः यह परिवर्तन प्रदान करता है। भवन मे यदि इस कोण मे दोष हो, तो यह शत्रुता चपट हो तो, जातक भाग्यशाली होते हुए भी आनन्द नही भोग सकता है। यदि वायव्य द्घर मे सबसे बड़ा या ज्यादा गोलाकार है तो गृहस्वामी को गुप्त रोग सताएंगें। इस कोण का स्वामी ‘बटुक’ है और प्रतिनिधि ग्रह ‘चन्द्रमा’ माना गया है।

हम अपने पढ़ने वाले के ज्ञान के लिए बता दे कि पूजा स्थल पर मूर्तिया स्थापित करते समय उनका मुख किस किस दिशा में होना चाहिए। पूजा के लिये जैसा हमने पहले लिखा कि इशान कोण सर्वाधिक उत्तम माना गया है। क्योंकि उत्तर व पूर्व से आने वाली ऊर्जा मन व मस्तिष्क को एकाग्रचित रखती है जो कि पूजा पाठ के लिए बहुत जरूरी है। इसी प्रकार चित्र, मूर्ति या प्रतिमा का भी मुख दिशा विशेष की ओर रखने का अपना महत्व है। ब्रह्मा, विष्णु, शिव, कार्तिकेय, इन्द्र इत्यादि की मूर्तियों या चित्रों का मुख, पूर्व या पश्चिम की ओर रखना चाहिए। गणेश, कुबेर, षेडसी मातृकाओं का मुख सदैव दक्षिण दिशा की ओर होना चाहिए व हनुमान जी की मूर्ति या चित्र का मुख सर्वदा नैऋत्य दिशा की ओर होना चाहिए। इन सभी दिशाओं की ओर मुख निर्धारित करने के पीछे कुछ वैज्ञानिक तथ्य है ऐसा वास्तु शास्त्र का मानना है। यदि पूजा इत्यादि इशान दिशा में होगी तो उत्तर से बहने वाली चुम्बकीय तरंगे मानव के मन मस्तिक को एकाग्रचित रखती है और इसी से गति मिलेगी जो ध्यान व आत्मिक शांति के लिए बहुत जरूरी है।
वास्तु का मानव जीवन से सम्बन्धः—-
जिस प्रकार आज के युग में ज्योतिष मानव जीवन मे अपना स्थान स्थापित कर चुका है, उसी प्रकार आज के समय में वास्तु शास्त्र भी मानव जीवन मे महत्वपूर्ण स्थान ग्रहण कर चुका है। क्योंकि मानव जीवन का कोई भी ऐसा पहलू नही है जो वास्तु शास्त्र से प्रभावित न हो। यह तो अब माना जाने लगा है कि मकान की बनावट, उसमें रखी जाने वाली चीजें और उन्हे रखने का तरीका जीवन को बना व बिगाड़ सकता है। कुछ समय पहले वास्तु शास्त्र का उपयोग सिर्फ धनाढ़्‌य व्यक्ति अपनी फैक्टरियों व कोठियां आदि बनवाने में करते थे, परन्तु आज एक साधारण व्यक्ति भी इस बारे में जानकारी रखता है और उसकी कोशिश रहती है कि वह अपना भवन वास्तु शास्त्र की दिशा निर्देश के अनुसार करवाए, ताकि भविष्य मे आने वाले दुःख तकलीफ का निवारण कर सके। वास्तु शास्त्र के सिद्धान्तों मे प्रकृति के साथ तालमेल बढ़ाने के कई तरह के उदाहरण मिलते है। वास्तु शास्त्र की यह कोशिश रहती है कि प्रकृति के नियमों के खिलाफ कोई काम न करे ताकि किसी प्रकार का कोई दण्ड न मिलें। वास्तु का एक उत्तम प्रमाण अमेरिका के भूतपूर्व राष्ट्रपति श्री बिल क्लिंटन है जो कि वास्तु शास्त्र का लोहा मानते हैं। अपने कार्यकाल मे उन्होने अपने ऑफिस में बैठने की दिशा बदल कर और अपने आवास को उत्तर दिशा वाली खिड़की में मोमबत्ती जला कर रखने से अपनी जीवन में सुखद अनुभूति महसूस की। इससे सिद्ध होता है कि वास्तु शास्त्र का प्रचलन पश्चिमी देशों में भी है तभी तो वहां के लोग सुख व शान्ति से रहते है। वास्तु का मनुष्य की राशी में ग्रहों से भी बहुत निकट का सम्बन्ध है। इसका विवरण हम नीचे अलग से दे रहे हैं।
वास्तु का ग्रहों से सम्बन्धः- —

जैसा कि हम पहले भी लिख चुके है कि वास्तु और ज्योतिष का चोली दामन का सम्बंध है इसमें कुछ भी झूठ नहीं है, क्योंकि ग्रहों का प्रभाव भवन निर्माण पर पड़ता है। जिस तरह मानव जीवन पर शुभ और अशुभ ग्रहों का प्रभाव पड़ता है, ऐसा ही प्रभाव निर्जीव वस्तुओं पर भी पड़ता है। उदाहरण के लिए जिस प्रकार चन्द्रमा के बढ़ने व घटने का प्रभाव समुद्र पर पड़ता है और इसी प्रभाव के कारण ज्वार भाटा उठता है। इससे सिद्ध होता है कि वास्तु जैसी निर्जीव वस्तुओं पर भी ग्रहो का प्रभाव पड़ता है और वह इन ग्रहों के प्रभाव से नही बच सकती। इस का उदाहरण इस प्रकार भी समझा जा सकता है कि एक ही जगह पर दो पत्थर पड़े हुए हैं और जिस पर ग्रहों का शुभ प्रभाव है वह देवता की मूर्ति के लिए चुन लिया जाता है, परन्तु बुरे ग्रह के प्रभाव के कारण दूसरे पत्थर को सीढ़ियों के लिए भी जगह नही मिलती। इन दो उदाहरणों से यह सिद्ध होता है कि ग्रहों का प्रभाव निर्जीव वस्तुओं पर भी उसी प्रकार पड़ता है जिस प्रकार मानव जीवन पर पड़ता है। जैसा कि हम पहले लिख चुके है कि वास्तु एवं ज्योतिष के अनुसार आठ दिशाएं है और हर दिशा एक निश्चित ग्रह के अधीन होती है और उनका दिशाओं पर एक विशेष प्रकार का प्रभाव रहता है। कौन-कौन सी दिशा में किस-किस ग्रह का प्रभाव विशेष रूप से पड़ता है यह हम निम्नलिखित सारिणी द्वारा बता रहे है।
ग्रहों के द्वारा द्घर के मालिक व परिवार के सदस्यों पर पड़ने वाले प्रभाव का विवरण इस प्रकार है।
1.सूर्यः- सूर्य क्योंकि पूर्व दिशा से निकलता है, इसीलिए उसका आधिपत्य इस दिशा में रहता है। जिस भवन का मुख्य प्रवेश द्वार पूर्व की आरे होगा उस भवन में रहने वाले लोग श्रेष्ठ व्यक्तित्व वाले, ओजस्वी एवं समृद्ध होंगें। ऐसे लोंगों की वृद्धि अति तेज होगी और उनका लग्न सिंह होता है। ऐसे व्यक्तियों को कड़वी चीजे बहुत पसन्द होती है। अतः वह मेथी, करेला आदि सब्जियों के बहुत शौकीन होते है।
2.चन्द्रः- चन्द्र का स्वामित्व भवन के वायव्य दिशा में होता है। क्योंकि वायु कभी भी एक जगह नही ठहरती है, इसलिए जिस भवन का द्वार इस दिशा में होगा उस गृह का स्वामी व गृह में रहने वाले लोगों का स्वभाव चंचल, अस्थिर तथा भावावेश में बहने वाला होगा। ऐसे लोग सैर सपाटे, यात्रा व मौजमस्ती के शौकीन होते है। हरी सब्जियां उन्हे बहुत पसन्द होती है और नमकीन के बहुत शौकीन होते है।
3.मंगलः- मंगल उस भवन का स्वामी होता है जिसका द्वार दक्षिण दिशा मे हों। इस ग्रह का स्वामी कर्मनिष्ट, साहसी निडर एवं निर्भीक होता है। वह स्वभाव से कुछ चंचल भी होता है। ऐसे व्यक्तियों की पंसद गरिष्ट व मसालेदार भोजन होता है।
4.बुधः- जिस भवन का प्रवेशद्वार उत्तर दिशा मे होता है उसका स्वामी बुध को माना जाता है। बुद्ध अपने प्रभाव द्वारा ग्रह स्वामी को बुद्धिचातृर्य एवं विनोद प्रदान करता है, जिस कारण मानव अपने बुद्धिबल पर प्रसिद्धि पाता है और उसका कार्य क्षेत्र लेखन एवं साहित्य से जुड़ा होता है। ऐसे लोग नियमों एवं अनुशासन का बहुत सख्ती से पालन करते है। वह किसी भी भोजन को प्राथमिकता नहीं देते। उन्हे जो मिल पाता है उसी को संतोषपूर्वक ग्रहण कर लेते है।
5.गुरू(बुहस्पति):- गुरू या बुहस्पति अपना आधिपत्य उस भवन पर जमाते है जिस भवन का मुख्य द्वार ईशान दिशा में होता है। ऐसे भवन के गृहस्वामी का स्वभाव दयालु, धार्मिक व विचारशील प्रकृति का होता है। ऐसे पुरूष धर्म के प्रति बहुत आस्था रखते हैं। जरूरत पड़ने पर वह साहस का संचार भी कर लेते है और दुश्मन से लोहा लेने को तैयार रहते हैं। अध्ययन, अध्यापन, भाषा एवं शिक्षा के क्षेत्रों मे खास रूचि होती है। ऐसे लोग सात्विक एवं शुद्ध भोजन को ही ग्रहण करते है।
6.शुक्रः- जिन भवनों का प्रवेश द्वार आग्नेय दिशा की ओर हो ऐसे गृहों का आधिपत्य ग्रह शुक्र होगा। क्योंकि शुक्र का प्रभाव मौज मस्ती व विलास का प्रतिनिधित्व करता है। अतः ऐसे गृहस्वामी विलासी व मौजमस्ती करने वाले होगे। ऐसे व्यक्ति कठिन दौर मे भी अपने मनोरंजन के लिए पर्याप्त समय निकाल लेते है और अपनी आमदनी का ज्यादा हिस्सा ऐसे कार्यो पर व्यय करते है। वे स्वभावतः कला प्रेमी होते है एवं रसिक प्रवृति के होने के कारण इनका पहनावा तड़क भड़क वाला होता है। सुन्दर दिखने के लिए ऐसे मानव अनेक उपक्रम करते है। इन लोगो की पसन्द दही, पनीर, एवं खट्टे पदार्थ होते है।
7.शनिः- शनि ग्रह स्वभाव से कठोर एवं गंभीर माने जाते है। अतः एव ऐसे भवन जिनका मुख पश्मिच दिशा में होता है और मुख्य द्वार भी इसी दिशा में हो तो उसका स्वामी शनि को माना गया है। इस ग्रह के प्रभाव से गृहस्वामी ठहराव, गंभीरता से विचार करते है और नफे नुकसान को ध्यान मे रखकर कार्य करते है। अपने मिलने जुलने वालो मे ऐसे लोगों की छवि गंभीर व्यक्ति वाली बन जाती है। ऐसे लोग गरिष्ट, तले पदार्थो व ठंडे पेयजल के अधिक शौकीन होते है।
8.राहुः- राहु का आधिपत्य नैऋत्य दिशा मे होता है और जिस भवन का मुख्य द्वार इस दिशा मे हो तो इस ग्रह का उस पर पूर्ण प्रभाव होगा। राहु क्योंकि तामसी प्रवृति का माना गया है अतः एव ऐसे भवन का गृहस्वामी मूलतः तामसिक, द्घमण्डी, लुच्चा एवं धूर्त होगा। गुस्सा करना उसकी दिनचर्या का एक हिस्सा बन जाता है। मांस, मछली, गरिष्ट एवं बासी भोजन इनकी प्रथम पसन्द होती है।
कोई ग्रह विशेष अपना प्रभाव किस प्रकार रखता है यह उपरोक्त व्याख्या से स्पष्ट हो जाता है। कई लोगों के मन में भ्रम उठता है कि अगर किसी भवन के एक से अधिक प्रवेश द्वार भिन्न-भिन्न दिशाओं मे हो तो उस पर किस ग्रह का प्रभाव होगा। ऐसे लोगो की जानकारी के लिए बता दे कि यदि किसी भवन के तीन द्वार का प्रभाव हों तो उनका मिला जुला प्रभाव गृह स्वामी पर पड़ेगा। इसके अलावा खिड़कियों एवं रोशनदानों की स्थिती भी अपना प्रभाव दिखाती है। अगर दिशाओं के ग्रह प्रभावशाली एवं ताकतवर है तो वह द्घर मे सुख समृद्धि एवं शांति पूर्वक माहौल बनाकर रखेगें और अगर उनका प्रभाव क्षीण है और नीच प्रभाव में है तो इसके उल्ट असर दिखाएंगे।

अतः उपरोक्त बातों से सिद्ध होता है कि ज्योतिष वास्तु के साथ-साथ चलता है और इनका आपस मे गूढ़ / अटूट संबंध है। यह दोनो एक दूसरे के बगैर अधूरे हैं।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s