हिंदी का राष्ट्रिय गीत—स्वामी कल्याण चन्द्र “त्रिखंडीय”, खारी बावली ,दिल्ली….

हिंदी का राष्ट्रिय गीत—स्वामी कल्याण चन्द्र “त्रिखंडीय”, खारी बावली ,दिल्ली….
माँ !हिंदी तुम्हें प्रणाम!

माँ ! हिंदी तुम्हें प्रणाम!
कोटि-कोटि कंठों की भाषा,
कोटि भावनाओ की आशा ,
भारत माँ की भालचंद्र की-
बिंदी तुम्हें प्रणाम!
माँ हिंदी तुम्हें प्रणाम!!

क्या गुजरती क्या बंगाली,
क्या उड़िया क्या राजस्थानी,
क्या मलियालम क्या पंजाबी.
तुम सब भाषाओ की रानी,
देव दिव्य वाणी की बेटी-
हिंदी तुम्हें प्रणाम!
माँ !हिंदी तुम्हें प्रणाम!!

तुम्ही मराठी तुम्ही बिहारी,
तुम हरियाणी तुम ढूंडयारी ,
सकल विश्व भाषा की रानी ,
ब्रजभाषा घनश्याम दुलारी,
सरल सुधामय विश्व मोहिनी!
तेरे अगणित नाम!
माँ !हिंदी तुम्हें प्रणाम!!

तुम अखंड हो तुम प्रचंड हो, तुम भारत का मेरुदंड हो,
विश्व भारती मनोहारिणी, क्यों न हमें तुम पर घमंड हो,
तेरे एक-एक अक्षर की, तेरी एक-एक पंक्ति की-
चिन्धी तुम्हें प्रणाम! माँ ! हिंदी तुम्हें प्रणाम!!

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s